Text Size

साँप का स्वप्न

आज, जब मैं गंगा के तट पर बैठे हिमालय के पावन प्रदेश में साँस ले रहा हूँ तब, पुराने दिनों की स्मृति मन को टटोलती है । बीज में से अंकुरित होकर फूल और फल की सृष्टि होती है, बिल्कुल उसी तरह बचपन में बोए गये संस्कार-बीज आज अंकुरित होकर महक रहे है । मेरे मन के भाव पुष्ट हुए है, मेरी सोच परिपक्व और मेरे आदर्श अधिक अलौकिक हुए है । उमदा संस्कार के बीज बहुमूल्य होते है क्योंकि उनके बगैर फूल और फल से भरी जीवन की ईस बाड़ी की कल्पना करना असंभव है । जड़ के बिना पौधे का होना और किसी आधार के बिना मकान का ख़डे रहना क्या संभव है ? अगर दूध नहीं है तो दहीं कैसे बनेगा ? बाल्यावस्था का अनुभव किये बिना युवावस्था में पैर रख़ना नामुमकिन है । जिंदगी के ईमारत की नींव बचपन है, इसलिए उसकी उपेक्षा या अवगणना करना बड़ी मूर्खता होगी ।

बचपन के उन दिनों नींद में मैने एक स्वप्न देखा । जिस आश्रम में मैं रहता था वहाँ एक छोटा सा मंदिर था और उसकी बगल में एक मैदान । मैं वहाँ ख़डा था और एक कोने में मैंने एक साँप को देखा । मुझे भय लगा क्यूँकि साँप मेरी ओर आ रहा था । मैंने भागना शुरू किया लेकिन आश्चर्य तो ईस बात का था की साँप ने मेरा पीछा करना शुरू किया । मैं आगे और साँप पीछे । कुछ देर तक मैदान के चक्कर काटने के बाद मैं थक गया । मुझे लगा कि अब मैं ओर नहीं भाग पाउँगा इसलिए मैं रुक गया । मेरे आश्चर्य पर साँप भी रुक गया ओर मुझे संबोधित करके कहने लगा, ‘मुझसे ड़रने की कोई वजह नहीं है । मैं आपको किसी भी प्रकार से हानि नहीं पहूचाउंगा ।’

ये बात अपने आप में बड़ी असाधारण और विचित्र थी । साँप क्या आदमी की तरह बोल सकता है, और वो भी शुद्ध गुजराती भाषा में ? मेरे आश्चर्य की सीमा न रही । भय को त्याग कर और कुछ रोमांचित होकर मैंने साँप की ओर देखा । सचमुच अपने सिर को हिलाकर वह बोल रहा था । थोडी देर में साँप अदृश्य हो गया और बिल्कुल उसी जगह पर एक मूर्ति खड़ी हो गई । मैं मूर्ति को पहचान नहीं पाया । कुछ ही क्षणो में मूर्ति में से आवाज आयी, ‘आप एक महान पुरुष बनोगे । आप का जन्म उसी के लिए है ।’ ईतना बताकर वह मूर्ति भी अदृश्य हो गई । मेरी नींद ईस असाधारण स्वप्न से समाप्त हो गई । पूर्णतया जागृति में आने के पश्चात मैं सोचने लगा, यह साँप कौन होगा और उसके मेरे पीछे भागने की क्या वजह होगी ? क्या वह कलियुग था या फिर माया का कोई स्वरूप ? कहीं खुद ईश्वर तो साँप के रूप में नहीं आये थे ?

सोचने पर भी प्रश्नो के ठोंस उत्तर मुझे नहीं मिले । हाँ, ईससे एक प्रकार की दृढता अवश्य मिली कि मैं सचमुच एक महान पुरुष बनूँगा । मैं यह नहीं जानता था कि किस रीत से मैं महापुरुष बन पाउँगा, मगर मुझमें एक आत्मविश्वास ने जन्म लिया की ईश्वर की योजना है तो एसा जरूर संभव होगा । ईश्वर ने मेरे भावि जीवन की संभावना को इस स्वप्न के रूप में व्यक्त किया है । भावि जीवन के प्रति मेरी उम्मीदें काफि बढ़ गई और मेरे जीवन में एक नयी आशा और उत्साह का संचार हुआ । मेरी महत्वकांक्षा के पंछी को मानो दो पंख मिल गये ।

 

Today's Quote

Success is getting what you want. Happiness is wanting what you get.
- Dave Gardner

prabhu-handwriting