Text Size

saral gita

श्री योगेश्वर कृत 'गीतादर्शन' का हिन्दी अनुवाद
Hindi Translation of 'Geeta Darshan'
अनुवादक - प्रा. शशीकान्त कोन्ट्राकटर

Title Hits
प्रस्तावना Hits: 172
गीता के संगीत के बारे में Hits: 185
आवश्यक वन्दना Hits: 186
गीता की महत्ता - १ Hits: 193
गीता की महत्ता - २ Hits: 178
गीता का विचार क्यों ? Hits: 184
जुए के दुष्परिणाम Hits: 184
कुरुक्षेत्र धर्मक्षेत्र क्यों ? Hits: 178
संजय की दिव्य दृष्टि Hits: 194
दुर्योधन का पात्र Hits: 181
अर्जुन का पात्र Hits: 163
अर्जुन की दशा - १ Hits: 136
अर्जुन की दशा - २ Hits: 129
गीता का मूल कारण Hits: 130
विषाद का प्रसंग Hits: 140
अर्जुन का हृदय Hits: 127
व्यवहार में ज्ञान संभव है या नहीं ? Hits: 138
मृत्यु का भय Hits: 145
मृत्यु का लाभ – नवजीवन की प्राप्ति Hits: 141
मृत्यु को जीत सकते है Hits: 160
मृत्यु के भय से मुक्ति प्राप्त कीजिए Hits: 162
मृत्यु अमंगल नहीं है Hits: 131
शरीर की नश्वरता एवं आत्मा की अमरता Hits: 131
बड़े बड़े लोग भी शरीर में फँस गए हैं Hits: 161
मृत्यु का शोक व्यर्थ है Hits: 183
स्वधर्म का विचार Hits: 157
स्वधर्म की शिक्षा Hits: 126
कर्म में कुशलता Hits: 131
स्थितप्रज्ञ पुरुष की पहचान Hits: 131
महापुरुष की पहचान Hits: 145
महानता का मार्ग Hits: 130
स्थितप्रज्ञ के लक्षण Hits: 149
तृतीय अध्याय का आरंभ एवं उसका कारण Hits: 118
अर्जुन की जिज्ञासा – ज्ञान बड़ा या कर्म? Hits: 110
भगवान का उत्तर Hits: 109
ज्ञान और कर्म की तुलना Hits: 113
बिना कर्म के कोई नहीं रह सकता Hits: 106
संयम की व्याख्या Hits: 109
वेश्या का प्रसंग Hits: 97
भीतर का त्याग भी आवश्यक है Hits: 107
यज्ञ की व्याख्या Hits: 92
कर्म में यज्ञ की भावना Hits: 127
रोज के कामों में यज्ञ भावना Hits: 127
महापुरुषों को कार्य की आवश्यकता नहीं Hits: 133
ज्ञानी एवं अज्ञानी के कर्म में फर्क Hits: 119
स्वधर्म का पालन कल्याणकारी है Hits: 136
पाप में लगने का कारण Hits: 107
जीवन के निर्माण में जुट जाइए Hits: 104
कर्म योग का रहस्य Hits: 72
कर्मयोग की पुरानी परंपरा Hits: 67

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.

Ok