Text Size

अज्ञात संतपुरुष

हमारी यह सृष्टि कितनी विराट और कितनी विशाल है । विज्ञान इसका रहस्य ढूँढने में प्रयत्नशील है लेकिन वह प्रयत्न स्थूल है और उसके द्वारा बाह्य जगत की जानकारी उपलब्ध होती है, अंतरग सुक्ष्म दुनिया की नहीं । हमारे इसी भौतिक जगत में एक दूसरी सुक्ष्म दुनिया है जो समर्थ संतपुरुषों की है और जिसका अनुभव आध्यात्मिक अनुभूतिओं द्वारा ही हो सकता है ।

साधना-पथ पर चलते-चलते आंतरिक दुनिया के ऐसे विस्मयकारी अनोखे अनुभव होते हैं, जो हमें सोच में डाल देते हैं और सुक्ष्म जगत के अस्तित्व में मानने को मजबूर कर देते हैं । इस संबंध में मेरा अपना अनुभव कहूँ ? यह अनुभव प्रायः सात वर्ष पूर्व का है ।

मैं अपने वतन – सरोडा गाँव में कुछ दिन रहने गया था । वहाँ हररोज शाम को एक घंटा गीता का सत्संग होता और गाँव के कई नर-नारी उसका लाभ लेते ।

एक बार मध्यरात्रि के समय, मेरे नित्य के नियमानुसार मैं ध्यान में बैठा था, उस वक्त मेरा मन एकाएक शांत हो गया और मुझे समाधि का अनुभव हुआ । उस अवस्था में मैंने देखा तो घर के द्वार सहसा खुल गये और उसमें प्रकाश छा गया । उसमें से दो संतपुरुष अंदर आए ।

मैं सोचने लगा, ‘ये सतंपुरुष कौन है ?’

उनमें से एक की उम्र छोटी – करीब दस-बारह साल की थी । दूसरे वृद्ध पुरुष थे और प्रज्ञाचक्षु थे । स्वामीनारायण संप्रदाय के संत पहनते हैं वैसे लाल रंग की धोती, उपवस्त्र और मस्तक पर पगडियाँ थी । मेरे आगे आकर वे बैठ गये । मैंने सादर व सप्रेम प्रणाम किये ।

बडे संत ने कहा, ‘हम आकाशमार्ग से गढ़डा जा रहे हैं । इसी रास्ते में आपका गाँव आया । आप यहाँ रहते हैं यह हम जानते है, इसलिए आपसे मिलने हम आ पहुँचे । आप नित्य गीता-प्रवचन करते हैं यह बडी खुशी की बात हैं । इसको सुनने हमारे स्वामीनारायण संप्रदाय के लोग भी आते हैं, यह देख हमें आनंद होता है ।’

उन महापुरुषों से मिलकर, उनकी बातें सुन मैं फूला नहीं समाया । उनके साथ ज्यादा समय बात करने की इच्छा होते हुए भी इसका अवकाश न था । उन्होंने फौरन कहा, ‘अब हम जातें हैं । गढडा जाकर सुबह से पहले हमें लौटना है ।’ इतना कह दोनों संत खडे हो गये ।

द्वार पर फिर प्रकाश हुआ । प्रकाश में से वे बाहर निकले । मैं भी उनके पीछे बाहर आया पर वे देखते ही देखते गायब हो गये ।

जब मेरी आँखे खुली तब उस अनुभूति का असाधारण, अवर्णनीय आनंद मेरे अंतर में विद्यमान था । उन अदभूत संतपुरुषों की आकृति मेरी नयन-झरोखे पर अंकित थी ।

वे पुरुष कौन थे ? गीता के द्वितीय अध्याय के अनुसार जब दुनिया के लोग रात को सोते हैं तब वे जागते हैं, उन्हें नींद नहीं । न जाने किस विशिष्ट काम से, किसका कल्याण करने स्वामीनारायण संप्रदाय के तीर्थस्थान – गढडा की ओर जा रहे थे ।

कुछ भी हो, उनका दर्शन आहलादक था इसमें संदेह नहीं । इस अजीब अनुभव से मुझे पता चला की इस देश में ऐसे कई महापुरुष हैं जो सुक्ष्म रूप में, अज्ञात रहकर विचरण करते हैं और अपना जीवनकार्य करते रहते हैं । उनका दर्शन उन्हीं के अनुग्रह से किसी धन्य क्षण को होता है । जब होता है, तब आशीर्वाद समान सिद्ध होता है ।

उन अज्ञात संतपुरुषों को मेरे सप्रेम वंदन । उनकी स्मृति सदा प्रेरणा प्रदान करती रहती है।

- श्री योगेश्वरजी

Comments  

0 #1 Pradeep Gurjar 2019-11-17 17:18
मुझे भी अपनी spiritual power raise करनी है । मैं भी इस संसार से भर चुका हूँ । मैं भी ध्यान करना चाहता हूँ और अपनी शक्ति बढाना चाहता हुँ । कृपा करके मुझे रास्ता दिखाये ।

Today's Quote

Death is not extinguishing the light; it is only putting out the lamp because the dawn has come.
- Rabindranath Tagore

prabhu-handwriting

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.

Ok