Sun, Jan 17, 2021

आश्रम में प्रारंभ की अरुचि

जब मैं बंबई आया तो वहाँ का माहौल मेरे लिये बिल्कुल नया था । गाँव में मुक्त और कुदरती माहौल था जब शहर में उससे बिल्कुल उल्टा था । इससे मुझे शुरु में कुछ घुटन-सी महसूस हुई । उसकी कइ बजह थी । एक तो छोटी उम्र में इतने दूर आकर अनजान लोगों के बीच रहना था । जब भी कीसी व्यक्ति को अनजान जगह और अनजान लोगों के बीच जाना पड़ता है तो एसा लगना स्वाभाविक है । लेकिन यहाँ एक और बात थी । आम विद्यासंस्थानों की तरह हमारे यहाँ भी बड़े छात्र छोटे छात्रों पे अपना सिक्का जमाते, उनसे अपने काम करवाते और परेशान करते । कभी-कभी हाथापाई भी होती । अगर छोटे विद्यार्थी गृहपति या प्रधान विद्यार्थी को अपनी परेशानी के बारे में बताते तो उनके खिलाफ कार्यवाही होती । मगर फरियाद करने से पहले सो बार सोचना पड़ता क्यूँकी कभी-कभी बडे विद्यार्थी को पता चलने पर उनकी डाँट खानी पड़ती । परिस्थिति से तंग आकर छोटे बच्चें अक्सर भागने की सोचते ।

हालात को बिगड़ने के लिए कई ओर वजह थी । छोटे बच्चों को अपना काम खुद करना पड़ता था । हालाकि बाद में उसमें सुधार आया था और उन्हें कपड़े धोने से मुक्ति दी गई थी । आठ-नौ साल के बच्चों से अच्छे कपड़े व बर्तन धोने की उम्मीद रखना कुछ ज्यादा ही था । बहुत सारे बच्चों को अपने घर में ऐसा करने का कोइ पूर्वानुभव नहीं था । ऐसे भी कई बच्चे थे जो अपने घर में खुद नहाते नहीं थे मगर उन्हें नहलाया जाता था । अब ऐसे बच्चे संस्था में प्रवेश पाते ही सभी कार्य में संपन्न कैसे हो सकते हैं ? ओर तो ओर उनकी भूल के लिये उन्हें सजा या दंड हो तो उसे क्रूरता ही कही जायेगा । बच्चों के सुधार के लिए उनको समज़ने की आवश्यकता है, नहीं की उनको दंड देने की ।

संस्था में दैनिक कार्यक्रमों का पालन बडी चुस्त ढंग से होता था । बच्चों को उनसे भी परेशानी होती । कभी नियमभंग होने से जो शिक्षा जी जाती उसकी कल्पना करके बच्चें धबरा जाते । गृहपति का राक्षसी पंजा जब बच्चों के कोमल गाल पर पडता तो बच्चें रो पडते । मुँह सुजने से दाक्तर को भी बुलाना पडता और कभी कान पर लगने से सुनने में दिक्कत आती । कई विद्यार्थीयों ने एसी सजा के विरुद्ध ट्रस्टीयों तक शिकायत की मगर कोई खास नतीजा नहीं निकला । ऐसे माहौल में मुझे गाँव जाने का मन होना बड़ा स्वाभाविक था ।

मेरे मामाजी आश्रम के पास ही रहते थे । एकाद साल के बाद वो अपने शेठ के साथ अंधेरी रहने चले गये । हर रविवार मैं उनके पास जाता । वो मुझसे प्यार करते और मेरी जरुरतें पूरी करते । जब मामाजी अंधेरी रहते थे तब मेरी माँ बंबई आई । मुझे मिलने आश्रम पर भी आई । मैंने उनसे कहा की यहाँ मेरा दिल नहीं लगता, मुझे वापिस गाँव ले जाओ मगर उन्होंने मुझे ढाढ़स बँधाई ।

एक-दो साल तक ऐसा अनुभव मैं करता रहा । शुरु में हर छूट्टीयों में गाँव जाने के लिए मैं बेकरार रहता लेकिन बाद में आश्रम में मुझे अच्छा लगने लगा और खास गाँव जाने का मन भी नहीं करता । हरएक नयी चीज, व्यक्ति या माहौल के लिए ये वात सही है । शुरु में मन नयी चीजों के प्रति आकर्षित नहीं होता और पुरानी चीजों के पीछे भागता रहता है । वक्त आने पर अपने आप सबकुछ बदल जाता है और नयी चीज या नयी जगह मन को भाने लगती है । संसार में ऐसा होता ही रहता है । जो चीज आज प्रिय लगती है, कल शायद न भी लगे और जो आज प्रिय न लगती हो वो शायद कल अच्छी भी लगे । जैसे कोई कन्या की शादी होती है तो वो अपने घर के प्रति ममत्व अनुभव करती है और आँसू बहाती है । बक्त गुजरने पर उसे अपना ससुराल अच्छा लगता है । जब वो माईके जाती है तो वापिस ससुराल आने का इंतजार करती है । मन की रचना ही कुछ अजीब है, वो किसी नये पदार्थ, व्यक्ति या वातावरण से नये संबंध प्रस्थापित कर लेता है । शायद उसी में उसकी भलाई है । इसका ये मतलब नहीं की आदमी को सबकुछ पुराना भूल जाना चाहिए । जो भी अच्छा हो उससे प्रेरणा लेकर उसे आगे बढ़ना है । हर परिस्थिति में प्रसन्न रहने की कला सिखनी है । समजदार लोग मौत से इसी कारण नहीं डरते क्योंकि उसीसे नये जीवन की संभावनाएँ पैदा होती है ।

अनुभव से ये सब सत्य समज में आते है । मैं तो उस वक्त छोटा बच्चा था इसलिए मुझमें इतनी समज नहीं थी । शुरु-शुरु में बंबई आश्रम में अच्छा नहीं लगने की यही वजह थी ।

 

Today's Quote

Fear knocked at my door. Faith opened that door and no one was there.
- Unknown

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.