जीवनचरित्रों के पठन का प्रभाव

गीतापठन के उन दिनो में एक और घटना घटी जिसने शुद्धि के प्रयत्नो में बड़ी सहायता पहूँचायी । उन दिनों अचानक मेरे हाथ में श्री रामकृष्ण परमहंसदेव का जीवनचरित्र आया । धार्मिक व आध्यात्मिक साहित्य पढ़ने का मुझे शौक था, ये जानकर मेरे एक मित्र ने पुस्तकालय से यह पुस्तक लाकर मेरे हाथ में थमा दिया । मेरे लिए उनकी जीवनकथा पढ़ने का यह प्रथम अवसर था । हालाकि मैंने उनके सारवचनों को गीता के पृष्ठों पर पढ़ा था (मैंने उसका उल्लेख पूर्व कर दिया है), ईसलिए मुझे उनके प्रति आदर-सम्मान तो था ही । मैं उन्हें ईश्वरकृपाप्राप्त महापुरुष मानता था । उनका जीवनचरित्र मेरे हाथ में आने से मुझे बड़ा आनंद हुआ । ईश्वर के आशीर्वाद से या रामकृष्णदेव की कृपा से, जो भी मानो, मेरे जीवनविकास के निर्णायक दौर में सहायता पहूँचाने वो किताब मेरे पास आयी । ईश्वर की लीला बडी गहन होती है । वो किस वक्त और किस प्रकार सहायता करे वो कौन जान सकता हे भला ? शास्त्रो और संतो का ये मानना है कि पूर्वजन्म के संस्कारो पर वर्तमान जीवन का गठन होता है । अगर ये सच भी है तो उसे कैसे सिद्ध करें ? शायद कोई सिद्ध महापुरुष उसका भेद समझने में सफल हो ये  अलग बात है मगर आम आदमी के लिए तो उसे समझ पाना हथेली पर चाँद लाने के बराबर है । पंडीतो के लिए भी जो मुश्किल था, चौद साल की उम्रमें भला मैं कैसे समझ पाता ? रामकृष्णदेव का जीवनचरित्र देखते ही मुझे अपार आनंद हुआ । दिल में अजीब सी चहलपहल हुई ।

जीवनचरित्र का पठन शुरु हुआ । जैसे जैसे मैं उसे पढता गया वैसे मैं उसमें खोने लगा, उनके जीवनप्रसंग मेरी नजरों के सामने तादृश्य होने लगे । उनकी जीवनी का पठन मेरे लिए ऐतिहासिक सिद्ध हुआ । संसार के कितने अनगिनत लोगों को उनकी जीवनी ने प्रेरणा दी होगी । आज तो परमहंसदेव की ख्याति हिंदूस्तान की सरहदों को पार करके अनगिनत देशो में जा पहूँची है और भारत के प्रसिद्ध महापुरुषो में उनकी गिनती होती है । रामकृष्णदेव के जीवनचरित्र के पठन से मुझे नयी रोशनी मिली । मैंने उनके साधनाप्रयोगो को पढ़ा । जगदंबा से उनके अखंड अनुसंधान के बारे में और गुरु तोतापुरी से उन्हें हुई निर्विकल्प समाधि के बारे में पढ़ा । माँ शारदा से शादी पश्चात उनका निर्मल व कामवासना से मुक्त व्यवहार पढ़ा । विवेकानंद का जीवन-परिवर्तन और कई भक्तों के जीवन में उनकी वजह से आये बदलाव के बारे में जाना । कामिनी, कांचन और कीर्ति के प्रति उनकी निर्मोहिता और वैराग्य के बारे में सोचता रहा । उनके उपदेशो का अनगिनत बार मनन किया । और अंत में जाकर पढ़ा उनका महाप्रस्थान । ये सब मेरे दिल में ऐसे जुड़ गया की बात ही मत पूछो । उनका जीवन धर्म का अनुवाद था और साधना का प्रत्यक्ष तरजूमा भी । उनके जीवन से साधना व ईश्वरदर्शन के लिए मुझे अनमोल प्रेरणा मीली । जीवन विकास के लिए आवश्यक हृदयशुद्धि से मैं कुछ हद तक वाकिफ़ था, ईस जीवनी के पठन से ईश्वरदर्शन के बारे में बहुत सारी जानकारी हासिल हुई । मेरी खुशी का ठिकाना न रहा । मुझे एसा भी लगा की मानो अपने बीते हुए कल के बारे में मैं पढ़ रहा था ।

जीवन में जो हासिल करना था, जिन आध्यात्मिक बूलंदीओँ को छूना था, उससे मैं अवगत हूआ । मेरे दिल में रामकृष्णदेव जैसे महान पुरुष बनने की महत्वकांक्षा ने जन्म लिया । मुझे लगा की मेरा जन्म इसी लिए है । ईश्वर ने मुझे इस लिए जग में भेजा है । मेरा हृदय भर आया । मेरे नैनो से अश्रु टपकने लगे । किताब का आखरी पृष्ठ आ पहुँचा । केवल एक वस्त्र पहनकर मैं छत के द्वार पर बैठा था । किताब में रामकृष्णदेव का फोटो था । मैंने भाववश उसको प्रणाम किया और दिल से प्रार्थना की : हे प्रभु, मुझे अपनी शरण में ले लो । मुझे अपने जैसा पवित्र, प्रभुपरायण व महान बनाओ । कामिनी, कांचन व काया के मोह से हमेंशा मुक्त रखो । जगदंबा की कृपा मुझ पर बरसे ऐसा आशीर्वाद दो । मुझे संसार की आसक्ति से दूर रखो और शुद्ध, बुद्ध व मुक्त बनाओ ।

आज भी वो दृश्य मेरी नजरों के सामने आता है और मेरे मन में कुछ अजीब संवेदन पैदा करता है । वो दिन मेरे जीवन का सबसे यादगार दिन था उसमें कोई दोराई नहीं । मेरे भावि जीवन की सुवर्ण पृष्ठभूमिका का वो पहला पृष्ठ था । भला उसे मैं कैसे भूल सकता हूँ ?

 

Today's Quote

Happiness is when what you think, what you say and what you do are in harmony.
- Mahatma Gandhi

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.