आलंदी की मुलाकात

गुजराती की यात्रा विविध कारणों से यादगार रही । उनमें से एक था, ज्ञानेश्वर महाराज के लीलास्थान आलंदी की यात्रा । यात्रा में मेरे साथ बंबई के पाँच और पूना के दो भक्तजन जुडे थे, इसलिये विशेष आनंद हुआ ।

सन १९४४ में उत्तरकाशी में मुझे पहली बार ज्ञानेश्वर महाराज के दर्शन हुए थे । इसका जीक्र मैंने पूर्व प्रकरणों में किया है । तब-से लेकर मेरा आलंदी जाने का मन था । अब बंबई आया तो आलंदी गये बिना कैसे रह सकता था ।

आलंदी ज्ञानेश्वर महाराजी की समाधि के कारण सुविख्यात है । यहाँ का मंदिर स्वच्छ एवं सुंदर है । मंदिर के पीछे नदी का प्रवाह है । आलंदी पूना से तकरीबन बीस मील की दूरी पर है, इसलिये काफि लोग यहाँ आते है ।

आलंदी आकर हम समाधि मंदिर गये । जैसे ही गर्भद्वार में गये, समाधिस्थान से पूजारी ने फूलों का हार लेकर मेरे गले में डाल दिया । मुझे लगा की पूजारी को प्रेरणा देकर ज्ञानेश्वर महाराज ने मेरा स्वागत किया है । इससे मुझे बहुत खुशी हुई ।

समाधिस्थान का दर्शन करने के बाद हमने मंदिर की चारों ओर प्रदक्षिणा की । मंदिर में जो कुछ देखनेलायक था वो देख लिया मगर मुझे किसी ओर स्थान की तलाश थी । वही स्थान जो सन १९४४ में मैंने समाधि अवस्था में देखा था । उसमें ज्ञानेश्वर महाराज कोई पेड के नीचे बैठे थे । मेरा मानना था की एसा कोई स्थान यहाँ जरूर होगा मगर अबतक एसा कुछ दिखाई नहीं पडा । इसलिये मैं थोडा निराश हो गया ।

मंदिर से बाहर निकलते वक्त द्वार पर एक अपरिचित व्यक्तिने आकर मुझे सीधा प्रश्न किया: 'क्या आपने सबकुछ देख लिया ?'
मैंने कहा: 'हाँ, वैसे तो सबकुछ देख लिया मगर जी नहीं भरा । लगता है की कुछ छूट गया है ।'
उसने कहा: 'आपने शायद ये नहीं देखा होगा । मेरे साथ चलो, मैं आपको दिखाता हूँ ।'

हम उसके पीछे-पीछे चले । मंदिर के पीछले हिस्से में कुछ सीडीयाँ थी । उसे चढने के बाद उसने कहा: 'क्या आपने ये जगह देखी ? नहीं न ? बहुत सारे लोग आपकी तरह आलंदी आते है पर इसे नहीं देखते । आप आराम से देखो । मुझे काम है, मैं चला ।'

उसे देखकर मेरे आश्चर्य और आनन्द की सीमा न रही । उत्तरकाशी में मैंने जो स्थान देखा था, यह वही स्थान था ! फर्क सिर्फ इतना था की मेरी अनुभूति में पैड के नीचे ज्ञानेश्वर महाराज बैठे थे, और यहाँ वो नहीं थे । मैं सोचने लगा की हमें ये जगह दिखानेवाला आदमी कौन हो सकता है ? क्या वो खुद ज्ञानेश्वर महाराज थे ? या फिर उनका कोई भक्त या पार्षद ? इसका उत्तर तो भगवान जाने मगर इस स्थान को देखकर मैं भावविभोर हो गया । मैंने उसी चौराहें पर पद्मासन लगाया और ज्ञानेश्वर महाराज को पुकारा । हमारे साथ जो आये थे वो भी बैठकर सुमिरन करने लगे । उन्होंने मेरी कुछ तसवीरें खींची मगर एक भी ठीक नहीं आयी । शायद ज्ञानेश्वर महाराज की यही इच्छा थी । हाँ, मेरे हृदय में इस स्थान की जो तसवीर बनी, वो अब भी वैसी है । उसे कोई नहीं मिटा पायेगा ।

जगह प्राचीन होने के बावजूद आकर्षक थी । अगर यहाँ पर ज्ञानेश्वर महाराज के दर्शन हो जाते हैं, तो सोने पे सुहागा होगा । मैंने बिनती करते हुए कहा, हे ज्ञानेश्वर महाराज ! आप मंदिर से उठकर मेरे पास आओ । आप तो देश और काल से पर हो । आपके दर्शन किये बिना मेरा यहाँ से खाली हाथ जाना ठीक नहीं है । कृपया मेरी पुकार सुनो, मुझे दर्शन दो ।

उनकी कृपा के बगैर कोन उन्हें देख सकता है ? और अगर देख भी ले तो कौन उन्हें पहेचान सकता है ? चित्रकूट के घाट पर संतो की भीड जमा हुई थी तब राजकुमार के वेश में राम और लक्ष्मण तुलसीदास के पास आये थे । मगर वो उन्हें कहाँ पहेचान पाये थे ? ईश्वर की लीला न्यारी है । तभी तो तुलसीदास ने गाया की -
सोहि जाने जेहु देहि जनाई । अर्थात् वो ही उन्हें जान सकता है जिसको वो अपनी मर्जी से बताना चाहे ।

Today's Quote

We are not human beings on a spiritual journey, We are spiritual beings on a human journey.
- Stephen Covey

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.