Wednesday, November 25, 2020

विषाद का प्रसंग

प्रथम अध्याय में हमने अर्जुन विषाद की चर्चा की । विषाद के इस सिलसिले में एक दूसरा प्रसंग याद आता है । जैसे अर्जुन को वैसे राम को भी विषाद हुआ था । उन्होंने भी संसार के प्रति अपना विषाद अच्छी तरह से प्रकट किया था । जैसे अर्जुन को जीवन सारथि के रूप में भगवान श्री कृष्ण मिले वैसे ही राम को महर्षि वशिष्ट । परिणाम दोनों का एक-सा हुआ । अर्जुन और राम दोनों सच्चा ज्ञान प्राप्त करके अलिप्त भाव से कर्म करने की कला सिख सके और संसार को दो ग्रन्थ रत्नों की प्राप्ति हुई, गीता और योग वशिष्ट । दोनों भारत के महान वारिस ग्रन्थ हैं और मनुष्य मात्र के लिए सर्वत्र और सदा प्रेरणा तथा शक्ति और प्रकाश के स्त्रोत हैं । भारतीय ऋषिवरों की जीवन के प्रति क्या भावना थी, इसका परिचय इन ग्रन्थों से भली-भाँति मिलता है । फ़र्ज और जीवन के व्यवहार से भागने की वृत्ति का त्याग वे सिखाते हैं । वैराग्य या विषाद के क्षणिक आवेश में आकर मनुष्य को अपना विवेक नहीं गँवाना चाहिए । यह इन दोनों ग्रन्थों का उपदेश है । उसकी बात हम आगे करेंगे । यहाँ तो अर्जुन के विषाद का क्या हुआ, यह देखना है ।

एक बार मैं साबरमती नदी के तट पर बैठा हुआ था । शाम का वक्त था । गाँव की ओर से फूस से भरी हुई बैल-गाड़ियों का एक जलूस आया । सभी बैल हट्टे कट्टे दीखते थे । सड़क समतल थी और बैल दौड़े चले आ रहे थे । नदी के अंदर से जाता हुआ वह जलूस बहुत सुहावना लगता था । छः सात गाड़ियाँ नदी के पर वाले किनार पर जा पहुँचीं और वहाँ से शुरु होनेवाले ढाल पर चढ़कर आगे बढ़ने लगीं, लेकिन इसके बाद ही एक हृदयस्पर्शी घटना हुई । एक गाड़ी में बैलों की क्षमता से ज्यादा बोजा लदा हुआ था । इसलिए नदी पार करके ज्योंही चढ़ाई शुरु हुई, उस गाड़ी के बैल बैठ गए । पीछे की सभी गाड़ियाँ रूक गई । गाड़ीवालो को जल्दी थी क्योंकि ऊन्हें रात में ही चलकर शहर में पहुँचना था । इसलिए उनका धैर्य छूट गया । हाथ में रक्खे हुए कोड़े के ब्रह्मास्त्रको उन्होंने बैलों पर आज़माना शुरू किया । और भी कितने प्रयोग किये, पर बैल लाचार थे । उन पर बेहद बोजा डाला गया था जिसके विरूद्ध वे इस प्रकार मूक शिकायत कर रहे थे, लेकिन उनकी शिकायत सुननेवाला कौन था ? उनके सत्याग्रह को मदद भी कौन दे ? अंत में एक बैल को निकाल कर उसके स्थान पर दूसरा बैल जोता गया, तब कहीं गाड़ी चल पाई और गाड़ीवालेने भी राहत की साँस ली ।

कुरुक्षेत्र के मैदान में कौरवों की विशाल सेना रुपी नदी के तट पर आकर अर्जुन को जो शोक हुआ, उसका विचार कर मुझे वह पुरानी घटना याद आ गई । गाड़ीवाले किसान के आगे जो समस्या आई थी, उससे भी अधिक गंभीर समस्या भगवान कृष्ण के सामने आ गई थी, किन्तु उसे सुलज़ाने का साधन भी उनके पास था । इस साधन का संकेत उन्होंने आगे चलकर अर्जुन को और उसके द्वारा सारे संसार को दिया है ।
उन्होंने अर्जुन को स्पष्ट शब्दों में बताया – “हे अर्जुन, तुम्हारा यह मोह और संशय अज्ञान से उत्पन्न हुआ है । इसलिये यह उचित नहीं है । ज्ञानरुपी तलवार से उसे काट डालो और लड़ने के लिये तैयार हो जाओ ।” अर्जुन का मोह अज्ञान से उपन्न है यह तो इसी वाक्य से स्पष्ट हो जाता है । उसे दूर करने के लिये भगवान स्वयं कैसे साधनों का उपयोग करते हैं और दूसरों को सिफ़ारिश करते हैं, यह भी अच्छी तरह से समज में आ सकता है । ज्ञानरूप शस्त्र का प्रयोग करने की भगवान ने सिफारिश की है । उस शस्त्र का प्रयोग करके भगवान ने अर्जुन के मृत उत्साह और विवेक को पुनः जीवित कर दिया और उसे सच्चे अर्थ में वीर बना दिया । गीता का उपदेश यही वीरता की शिक्षा है या कहिए कि मृतप्राय या मृतकों के लिये संजीवनी है ।

गाड़ीवालों की भाँति भगवान भी हतोत्साह नहीं हुए । उनके मुख पर तो वैसी ही मुस्कुराहट बनी रही । फिर भी थोड़ा-सा गंभीर होकर उन्होंने अर्जुन से कहा – ” हे अर्जुन, ऐन वक्त पर इस अपयश प्राप्त करानेवाले शोक ने तुम्हें कहाँ से आ घेरा ? युद्ध ही जब तुम्हारा प्रिय व्यवसाय है तो तुम्हें इस युद्ध में जबकि शंखनाद हो रहा है, नहीं लड़ने का विचार ही कैसे आया ? रणभूमि में खेलनेवाले क्षत्रिय को यह विचार शोभा नहीं देता । अतः इस कायरता को छोड़कर युद्ध करने के लिये उठ खड़े हो । ”

इतने ही उपदेश से अर्जुन का समाधान कहाँ होनेवाला था ? उसका शोक गहरा तो था ही, जिसके लिये भगवान के कितने ही उपदेश वचनों की आवश्यकता थी । उसने तो पहले ही अध्याय में छेड़ा हुआ राग फिर से शुरू कर दिया । उसके हृदय में से एक ही स्वर उठ रहा था – “यह मान लिया की युद्ध मेरा प्रिय व्यवसाय है और क्षत्रिय होने के नाते मेरा धर्म भी है, लेकिन उसकी भी कोई मर्यादा तो होती ही है न ? किसके साथ युद्ध करना है, इसका भी तो विचार करना चाहिए न ? इस युद्ध में भीष्म और द्रोण जैसे पूज्य पुरुषों के साथ लड़ना है । उन पर तीर चलाने का दिल ही कैसे हो ? ऐसे पूज्य पुरुषों को मारकर सुख और शांति कैसे मिलेगी ? उनको मारने से तो हमारे हाथ लहू से सन जायेंगे । हमारा अन्तस्थल ग्लानि से भर जायेगा । ऐसी अवस्था में हमें प्राप्त हुआ राज्य सुख भी कैसे अच्छा लगेगा ? स्वजनों को मारने से हमारे दिल में सदा के लिये डंख रह जाएगा और जीवन में दुःख और अशांति का साम्राज्य फैल जाएगा । अतएव उनको मारने में किसी तरह भी हमारा हित नहीं । इसलिये अमंगल के मूल जैसा यह युद्ध करने की मेरी बिलकुल इच्छा नहीं होती । इस हालत में मुझे क्या करना चाहिए ? मुझे युद्ध के मैदान से चला जाना चाहिये या नहीं, यह निर्णय भी मैं नहीं कर सकता, क्योंकि मेरे मन की अवस्था मूढ समान है । कर्तव्य की स्पष्ट प्रेरणा उसके भीतर प्रकट नहीं हो सकती । अतः मैं आपकी ही शरण आया हूँ । आप ही मेरे प्रकाशदाता गुरुदेव हैं । जो उचित हो वह उपदेश दें ।

- © श्री योगेश्वर

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.

Ok