Tue, Jan 26, 2021

मृत्यु का लाभ – नवजीवन की प्राप्ति

मृत्यु से डरने का कारण क्या है ? समस्त संसार एक ही सिर्जनहार की कृति है । ईश्वर की योजना के मुताबिक़ दुनिया चलती रहती है । यह योजना भी मंगल है । मनुष्य सिंह, बाघ, बिच्छु, और साँप तथा शत्रुओं से भी डरता है । वह समजता है कि उसका जीवन उन सब जीवों के सामने सुरक्षित नहीं । वे सब जीव उसके लिए हानिकर हैं, ऐसा सोचकर ही वह डरता है । मनुष्य के डर का कारण यह भी है कि वह अपने सच्चे स्वरुप को नहीं जानता और मृत्यु को अमंगल और हानिकारक मानता है । यह मान्यता ग़लत है । वह अगर अच्छी तरह सोचे तो उसे मालूम होगा कि मृत्यु उसके लिए अमंगल नहीं बल्कि आशीर्वाद है ।

गीताकार का कहना है कि जैसे मनुष्य पुराने कपड़े उतारकर नये कपड़े पहनता है, वैसे ही पुराना शरीर छोड़ने की क्रिया का नाम मृत्यु है । उसकी जरूरत मनुष्य के लिए कितने महत्व की है । जैसे-जैसे शरीर बड़ा होता जाता है, वैसे-वैसे वह घिसता जाता है, उसकी शक्ति का क्षय होता जाता है । ऐसे शरीर को बदलकर नये और ज्यादा अच्छे शरीर को धारण करने का लाभ देकर ईश्वर ने मनुष्य पर बड़ा उपकार किया है । संसार में अगर मृत्यु की व्यवस्था न होती तो क्या होता उसका विचार तो करो । हरएक जीव को चाहे पसंद आए या न आए फिर भी अपने जन्म से विरासत में पाए हुए एक ही प्रकार के वातावरण में रहना पड़ता । मृत्यु के द्वारा उसे नये वातावरण में रहने का अवसर मिलता है और वह नये सिरे से अपना जीवन शुरू कर सकता है ।

संसार में कई जीव दुःख ही दुःख भोगते दीखते हैं । कुछ जीव दूसरों के अहित या अमंगल के लिये ही जीते हैं, ऐसा लगता है । ऐसे जीवों की जिन्दगी पर मृत्यु का परदा गिराकर परमात्मा उनका एवं दूसरों का कल्याण ही करते हैं । मृत्यु इस तरह मंगलकारी तथा जीवन के विकास की योजना में सहायक है । अगर ऐसा है तो मनुष्य को उससे क्यों डरना चाहिए ? डरने से क्या वह दूर की जा सकती है ?

चाहे मनुष्य को अच्छा लगे या न लगे, जन्म मरण के चक्र में तो उसे घूमना ही है । जन्म और मरण के चक्र में घुमानेवाले जो कर्म हैं, उनके बंधनों से जब तक वह छुटकारा न पा ले, अथवा सृष्टि के स्वामी परमात्मा के साथ संबंध न स्थापित कर ले, तब तक इस चक्र से छुटकारा पाना उसके लिये मुश्किल है । ईश्वर की कृपा एवं मानव का पुरुषार्थ जब मिल जाते हैं तभी इस चक्र से आसानी से मुक्ति प्राप्त हो सकती है ।

हिमालय के पर्वतीय प्रदेशों में विचरनेवालों को एक रमणीय दृश्य देखने को मिलता है । वहां पर बहुमूल्य लकड़ी काटकर लोग लट्ठों को गंगा के प्रबल प्रवाह में बहा देते हैं । यह पद्धति अत्यंत आसान साबित होती है, क्योंकि करोड़ों की संख्या में काटे जानेवाले लक्कड़ों को आदमी या वाहन द्वारा ले जाने का खर्च बहुत हो जाता है । जब प्रकृति ने गंगा माता का दान दिया है तो उसका लाभ क्यों न उठाया जाय ? ग्रीष्म ऋतु में बहुत से लक्कड़ बहते हुए आते है और आगे को बढ़ते रहते हैं । उनको अंत में ऋषिकेश एवं हरिद्वार के पास बाहर निकाल लेते हैं ।

ऐसे अनेक सचेतन लक्कड़ अर्थात जीव संसार में विद्यमान हैं, जो जीवन की महान सरिता में बहते रहते हैं । कभी कभी एक पल में किसी किनारे पर रूक गए तो दूसरे ही पल फिर बहने लगते है । जीवन एवं मरण रुपी नदी के प्रवाह में बहते हुए इन कुंदों को मुक्ति कैसे मिलती है ? इसका उपाय एक ही है और वह यह कि वह उसके हाथ में पड़ जाय जो उनका मालिक है । ऐसा होने से वह किनारे पर निकाल दिया जायगा और मुक्त हो जायेगा । इसके सिवा दूसरा कोई चारा नहीं है ।

संसार में दिखाई देनेवाले छोटे बड़े सभी लक्कड़ एक ईश्वर के ही हैं । उनकी शरण लेने से ही जन्म मरण टलते हैं एवं मुक्ति मिलती है । तात्पर्य यह कि जन्म मरण के चक्कर से छूटने के लिये मनुष्य को परमात्मा की शरण लेनी चाहिए । संतों एवं शास्त्रों ने यही सिखाया है ।

- © श्री योगेश्वर (गीता का संगीत)

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.