जमनोत्री की यात्रा

जमनोत्री-यात्रा के प्रारंभ में मुझे अपने पूर्वजन्म का ज्ञान मिला । इससे मेरी यात्रा सार्थक और चिरस्मरणीय हो गई । एसा कोई अनुभव न मिलने पर भी अपने प्राकृतिक सौंदर्य के कारण जमनोत्री की यात्रा हमेशा याद रहेती । जिसने भी जमनोत्री की यात्रा की है, वे सभी मेरी बात से पूरी तरह से सहमत होंगे । पैदल मार्ग की एक ओर भगवान कृष्ण की मधुर याद दिलाती हुई जमनाजी का प्रवाह चलता रहता है । रास्ते में कहीं-कहीं बर्फ पर भी चलना पडता है । तब जाकर अंत में जमनोत्री के दर्शन होते हैं ।

जमनोत्री में सख्त ठंड पडती है क्योंकि आसपास हिमालय की बर्फिली चोटियाँ है । यहाँ एक ओर धर्मशाला और जमुनाजी का मंदिर है तथा दूसरी ओर छोटी-सी गुफा है । जब हम वहाँ गये थे तब वहाँ एक तपस्वी महात्मा मिले थे । उन्होंने अपने शरीर पर केवल लंगोटी पहनी थी । कडाके की सर्दी में लंगोटी पहनकर रहेना आसान बात नहीं, इसके लिये दृढ संकल्पशक्ति चाहिए । महात्माजी की मुखाकृति अत्यंत तेजस्वी थी । उनको देखकर लगता था की वे एक उच्च कोटि के महात्मा है । उन्होंने मौनव्रत धारण किया था । उनके दर्शन करके हमे बड़ी प्रसन्नता हुई ।

गुफा के बिल्कुल पास जो पहाड की चोटी है, वहाँ से जमुनाजी का जन्म होता है । शुरु में यह प्रवाह अत्यंत अल्प दिखाई पडता है मगर जैसे-जैसे हम आगे बढ़ते है, प्रवाह चौडा होता है । मानो जमनोत्री में जमुनाजी का जन्म होता है, वहाँ से आगे चलते हुए बाल्यावस्था और फिर यौवनावस्था में प्रवेश होता है । मैदानी इलाकों में आने के बाद जमुनाजी का प्रवाह धीर-गंभीर, प्रौढ-सा हो जाता है फिर भी उसकी सुंदरता तथा मधुरता देखते-ही बनती है ।

नदी के तट पर चलते चलते उसके उदगम तक चले जाने में प्राचीनकाल के महापुरुषों को बडा आनन्द मिलता होगा । वे सरिता को परमात्मा की शक्ति का साकार स्वरूप समजते थे, इसलिये नदीओं का स्तवन-पूजन करते थे । नदी के उदगम-स्थान पर उन्होंने मंदिर बनाये तथा सरिता-तट पर कई तीर्थधामों का निर्माण किया । आज भी ये तीर्थधाम लाखों लोगों के आकर्षण का केन्द्र बने हुए हैं ।

जमनोत्री की भयानक ठंड और जमुनाजी के बर्फिले पानी में स्नान करने का साहस कौन करेगा ? यहाँ पानी इतना ठंडा है की हाथ पानी में रखते ही जूठे पड जाते हैं । मगर कुदरत का करिश्मा देखो । जमुनाजी के तट पर गर्म पानी के कुंड है । गात्रों को थीजानेवाली बर्फिली जगह में उबलते हुए पानी के कुंड अपने आप में एक अजूबा है ! ईश्वर की बनायी हुई इस अदभूत दुनिया में एसे अजुबों की कमी नहीं है । कुंड में स्नान करके यात्री अपनी थकान और ठंडी – दोनों को दूर भगाते हैं और चुस्त-फुर्तीले हो जाते हैं । एक कुंड में खाना पकाया जाता है । कपडे में चावल रखकर पानी में थोडी देर रखने से चावल पक जाते है । आलु भी इसी तरह पकाया जाता है । यात्री फिर उसे प्रसाद मानकर अपने घर ले जाते हैं । जमनोत्री का स्थान सचमुच अनोखा है ।

जमनोत्री से उत्तरकाशी के मार्ग में झहरीली मक्खी पायी जाती है, जिसके काटने से बहुत दर्द होता है और पैर सूजता है । लोग इससे बचने के लिये पैरों में मोजे पहनते है ।

जमनोत्री की यात्रा पूर्ण करके हम उत्तरकाशी आये । उत्तरकाशी आने पर मैंने अपना पूर्ण ध्यान साधना में केन्द्रित किया ।

*

उत्तरकाशी में मेरी साधना अच्छी तरह से चल रही थी । मौसम खुशनुमा रहेता था । मैं जीवनमुक्त और धन्य दशा का अनुभव कर रहा था, इसलिये मेरा हृदय सदैव आनंदित रहता था । मनुष्य देह धारण करके जो हासिल करना था, वो मैंने कर लिया था । इसका मधुर एहसास मुझे नित्य निरंतर हो रहा था । मेरा तन, मन और अंतर सनातन शांति के समंदर में डूबा था । आत्मानुभव के कारण अंतर में जब आनंद के फव्वारे फुटने लगते तो मैं शंकराचार्य के सुप्रसिद्ध स्तोत्र 'चिदानंदरूप: शिवोङहम् शिवोङहम्' का गान करने लगता था । उत्तरकाशी के वो दिन मेरे जीवन में धन्यता के मधुर उत्सव समान थे ।

 

Today's Quote

Resentment is like taking poison and hoping the other person dies.
- St. Augustine

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.