माताजी से भेंट

देवकीबाई धर्मशाला का त्याग करके मैं चंपकभाई के साथ देवप्रयाग गया था । तब से लेकर आज तक मैं ज्यादातर साधनारत रहा था । माताजी को खत लिखने का काम चंपकभाई ही करते थे । जब मैं देहरादून में चंपकभाई से मिला तब उन्होंने मेरे साथ बदरी-केदार तथा गंगोत्री-जमनोत्री की यात्रा करने की इच्छा प्रकट की थी । लेकिन मैं यात्रा के लिये अन्य साधुओं के साथ निकल पडा । यात्रा करने की ईच्छा से चंपकभाई ने दहेरादून छोडने का निश्चय किया । उन्होंने मेरी माताजी को खत लिखकर दहेरादून बुलाया । दिल्ली से दहेरादून कैसे आना और दहेरादून आकर कैसे मिलना यह सब उन्होंने माताजी को खत में लिखा था ।

कहाँ गुजरात का एक छोटा-सा गाँव सरोडा और कहाँ हिमालय की गोदी में बसा दहेरादून ? सरोडा की कुटिया में बैठकर जब माताजी ने चंपकभाई का खत पढ़ा तो उनको समज नहीं आया की कैसे हिमालय जायें ? यात्रा की बात तो दूर, उनके लिये तो दहेरादून पहूँचना भी एक प्रश्न था । कौन उन्हें वहाँ तक छोडने का कष्ट करेगा ? गाँव के लोग कहने लगे, हिमालय जाने की क्या जरूरत है ? बदरीनाथ की यात्रा तो अत्यंत कष्टप्रद है । वहाँ जाकर बहुत कम लोग सकुशल वापिस आते हैं । महात्माजी (अर्थात् मैं) वहाँ गये हैं यह तो ठीक है, तुम्हें जाने की क्या जरूरत है ? आपकी तबियत ठीक नहीं है, अगर वहाँ जाकर बिमार हो जाओगी तो मुसिबत हो जायेगी । आपकी देखभाल कौन करेगा ?

लोगों की बातें सुनकर माताजी दुविधा में पड गये । उस वक्त उनकी तबियत अच्छी नहीं चल रही थी । उनकी आशाएँ मुझ पर थी मगर मैंने हिमालय का रास्ता चुना इसलिये उनकी समस्या अत्यंत विकट हो गई थी । ये कुछ महिने या साल बीताने की बात नहीं थी, उन्हें तो एसे हालात में सारी जिन्दगी बीतानी थी । चिंता उनको खाये जा रही थी मगर वो समजदार थी । धीरज धरने के अलावा वो भला क्या कर सकती थी । जब भी वो कथा-कीर्तन में जाती तो भजन सुनकर भावविभोर हो जाती और कभीकभा होश खो देती थी । कथा में आनेवाली ध्रुव या प्रहलाद जैसे भक्त-तपस्वीओं की बातें उन्हें मेरी याद दिलाती थी । गाँव के लोग उनकी यह अवस्था समज नहीं पाते थे । वे कहते थे की माताजी पर भूतप्रेत का साया है । कई लोग उन्हें दोराधागा करने की तथा वैद्य-भूवे के पास जानेकी सलाह देते थे । माताजी उन्हें प्यार से समजाते थे की एसा कुछ नहीं है, फिर भी गाँव के लोग उन्हें समजाते रहते थे ।

गाँव में एसे हालात थे । अब इन हालात में हिमालय जाने के लिये कौन उन्हें हाँ कहेगा ? फिर भी उन्होंने यात्रा के लिये तैयारी की क्योंकि उनके दिल में मुझसे मिलने की तीव्र इच्छा थी । चंपकभाई ने उन्हें आमंत्रण दिया तो वे झट-से आने के लिये तैयार हो गई । मगर हिमालय कैसे जाया जाय ?

लोगों की बातें अनसुनी करके वो अहमदाबाद आई । शादी के बाद मेरी छोटी बहन, ताराबहन अहमदाबाद रहेती थी । वहाँ जाकर माताजी ने अपने दिल की बात बताई । ताराबहन ने माताजी का हौसला बढाया और हिमालय के लिये तैयार किया । ताराबहन भले उम्र में भले मुझसे छोटी थी मगर काफि समजदार थी । उनके प्रोत्साहन से प्रसन्न होकर माताजी बडौदा आई । रमणभाई ने माताजी को समजाने की कोशिश की मगर उनका दृढ निर्णय देखकर उन्होंने अपने पुत्र मनुभाई को दहेरादून तक छोडने के लिये राजी किया । मनुभाई उम्र में छोटे थे मगर चतुर और समजदार थे । उनके साथ प्रवास करने में माताजी को कोई आपत्ति नहीं थी ।

ईश्वरेच्छा से माताजी और मनुभाई दहेरादुन आये । वहाँ से चंपकभाई उन्हें मसूरी घूमाने ले गये । वहाँ मसूरी के सुविख्यात जलधोध के बर्फिले पानी में माताजी ने स्नान किया । ये देखकर चंपकभाई ने माताजी को कहा: 'अब आप हिमालय की यात्रा के लिये तैयार है । ठंडे पानी में स्नान करने से आपकी हिंमत की कसौटी हो गई ।'

मनुभाई मसूरी से बडौदा के लिये वापिस लौटे । चंपकभाई माताजी के साथ यात्रा के लिये चल पडे । उनके साथ सामान उठाने के लिये एक मजदूर भी था । मैंने चंपकभाई को जमनोत्री होकर उत्तरकाशी आने के लिये कहा था, इसके मुताबिक वे जमनोत्री की कष्टमय यात्रा समाप्त करके माताजी साथे उत्तरकाशी आ पहूँचे । चंपकभाई की सेवा और प्रेम असाधारण था ।

चंपकभाई और माताजी उत्तरकाशी में प्रवेश-ही कर रहे थे की मैंने उनको दूर से देख लिया । उस वक्त मैं क्षेत्र से भिक्षा लेकर गंगाजी की ओर जा रहा था । भिक्षा को गंगा के किनारे रखकर मैं उनको मिलने गया । मैंने माताजी के चरणों को छूआ तो उनकी आँखो से प्रेमाश्रु बहने लगे । चंपकभाई कुछ ही वक्त पहेले मुझ को मिले थे मगर माताजी तकरीबन देढ साल के बाद मुझे मिल रही थी । मेरी तबियत ठीक थी मगर मेरे बाह्य रुपरंग में काफि बदलाव आया था । ऋषिकेश धर्मशाला में आने के बाद मैंने तैयार कपडे पहनने बन्द किये थे । दाढी के बाल बढे हुए थे । मेरा बाह्य परिवेश तपस्वी या साधु जैसा लगता था ।

भिक्षा पूर्ण करके मैं उनको मिलने बिरला धर्मशाला गया, जहाँ वे ठहरे थे । योगानुयोग उसी धर्मशाला में नारायण स्वामी ठहरे हुए थे । वे सिर्फ लंगोटी पहनते थे और मौनव्रत रखते थे । गीताप्रेस, गोरखपुर की ओर से उनकी एक किताब 'एक संत का अनुभव' प्रसिद्ध हुई थी । मैंने वो किताब पढी थी इसलिये मुझे उनके प्रति स्नेह हुआ । वे उच्चकोटि के अनुभवी संतपुरुष थे । उन्होंने नर्मदातट स्थित करनाली के पास हनुमंतेश्वर में बरसों तक साधना की थी । माताजी और चंपकभाई को उन्होंने प्रसाद दिया । फिर माताजी मेरी कुटिया में आई । वहाँ आकर उन्होंने ताराबेन और रमणभाई को खत लिखा ।

चंपकभाई के प्रेमाग्रह से वश होकर मैंने उन्हें यात्रा में साथ चलने की संमति दी । अगले दिन हम गंगोत्री के लिये रवाना हुए । उत्तरकाशी से देढ मील की दूरी पर मंगलस्वरूप नामक गुजराती ब्रह्मचारी रहते थे । वे फलाहारी थे । उनकी कुटिया पर कुछ देर तक विश्राम करने के बाद हम गंगोत्री के लिये चल पडे ।

 

Today's Quote

Success is getting what you want. Happiness is wanting what you get.
- Dave Gardner

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.