गंगोत्री और केदारनाथ

गंगोत्री का स्थान अत्यंत मनोहर है । जैसे जमनोत्री में जमुनाजी का मंदिर है, वैसे गंगोत्री में गंगाजी का मंदिर है । जमनोत्री की तरह यहाँ भी भारी ठण्ड पडती है और बर्फ गिरती है । यमुनोत्री तरह यहाँ गर्म पानी के कुण्ड नहीं है, फिर भी लोग श्रद्धा से गंगाजी में स्नान करते हैं । जमनोत्री की तुलना में यहाँ जनसंख्या अधिक है । गंगा के सामने किनारे पर कुछ कुटियाएँ है, जहाँ पर यात्रा के वक्त साधुसंत निवास करते है । उनके लिये अन्नक्षेत्र की सुविधा भी है ।

गंगोत्री में देवदार के पैड भारी संख्या में हैं । गंगा यहाँ पर भागीरथी के नाम से जानी जाती है । पौराणिक कथा के मुताबिक कपिल मुनि के श्राप के कारण सगर राजा के साठ हजार पुत्रों का नाश हुआ था । अपने पितृओं का उद्धार करने के लिये भगीरथ गंगा को धरातल पर अवतीर्ण करना चाहता था । भगीरथ की तपश्चर्या के कारण गंगाजी ने स्वर्गलोग से पृथ्वी पर आना स्वीकार किया । गंगा इसलिये भागीरथी के नाम से जानी जाती हैं । गंगाजी अवतरित होने से न केवल भगीरथ के पूर्वजों का उद्धार हुआ, मर्त्यलोक के कई जीवों को लाभ पहूँचा । भगीरथ इस तरह अमर हो गया ।

गंगोत्री से करीब पंद्रह मील की दूरी पर गोमुख है, जहाँ पर गंगा का उदभव होता है । गोमुख जाने का रास्ता विकट है, इसलिये बहुत कम लोग वहाँ जाते है । हमारी इच्छा गोमुख जाने की नहीं थी इसलिये गोमुख के मार्ग पर दो मील चलकर हम वापस लौटे । रास्ते में एक गुफा देखी जहाँ पर एक वयोवृद्ध महात्मा रहते थे । हमने सुना की दिनरात वे हाथ में माला लेकर 'जय जगदीश, जय जगदीश' का जाप करते रहते थे । उनकी मुखाकृति तेजस्वी थी । जो भी उनके पास जाता था वो उनका प्रसाद पाता था । शाम होने पर भोजन करने का उनका नियम था । उनके दर्शन से हमें प्रसन्नता हुई ।

उत्तरकाशी के प्रज्ञानाथ स्वामी उस वक्त गंगोत्री आये थे । उनके सत्संग के लिये बंबई से एक गुजराती भाई आये थे, जिनसे मेरा उत्तरकाशी में परिचय हुआ था । गंगोत्री में हमारी स्वामीजी तथा गुजराती भाई से फिर भेंट हुई ।

गंगोत्री के साथ स्वामी श्री कृष्णाश्रमजी का नाम जुडा हुआ है । उन्होंने यहाँ बरसो तक निवास किया था । पहले वे दंडी संन्यासी के भेष में रहे थे, बाद में उन्होंने दंड और वस्त्रों का त्याग किया था । गंगोत्री में भयानक ठंड के बावजूद वे बिल्कुल निर्वस्त्र रहते थे । चंपकभाई तथा माताजी ने कभी उनके दर्शन नहीं किये थे । हम गंगोत्री आये तो उनके दर्शन किये बिना कैसे जा सकते थे ?

जब हम उनके दर्शन के लिये गये तो वे कुटिया के बाहर पद्मासन में बैठे थे । स्वामीजी वैदिक काल के किसी महान तपस्वी जैसे लग रहे थे । उनकी सेवा में गंगोत्री के पास के किसी गाँव की स्त्री रहती थी । स्त्री परीणित थी मगर गृहक्लेश की वजह से या फिर संस्कारवश, स्वामीजी के पास आयी थी । उसने भी भगवे वस्त्र धारण किये थे । यहाँ के साधुसमाज में इस घटना से खलबली मच गई थी । यहाँ तक की कुछ साधु कृष्णाश्रम को तपभ्रष्ट मानकर उनकी निंदा करने लगे थे । एक स्त्री को साथ रखने से तथा उसकी सेवा लेने से कोई महात्मा तपभ्रष्ट कैसे होता है, यह मेरी समज में नहीं आया । हाँ एसा करने से अगर वे शरीरसुख या कामवासना में फँसे होते तो अलग बात है मगर एसा तो यहाँ नहीं था । फिर अपनी बुद्धि के बल पर तर्कवितर्क करके किसीको बदनाम करने से क्या फायदा ?

कुछ देर तक उनके दर्शन करके हम अपने स्थान लौटे । गंगोत्री में मुझे अपने पूर्वजन्म के ज्ञान का अनुभव मिला था – यह बात मैंने आगे बता दी है ।
*
गंगोत्री से केदारनाथ के मार्ग में पवाली की चढाई आती है । यहाँ यात्रीओं के मनोबल की कसौटी होती है । ऊंचे-ऊंचे पर्वत, आसपास हरेभरे खेत मन-अंतर को ठंडक देते हैं तथा थकान हर लेते हैं । यहाँ से त्रियुगी नारायण होकर गौरीकुंड और वहाँ से केदारनाथ जा सकते हैं । मार्ग में बुढ्ढा केदार का भी दर्शन होता है ।

केदारनाथ समुद्रतल से करीब बारह हजार फिट की उँचाई पर है । केदारनाथ में शंकर भगवान का मंदिर है । मंदिर के आसपास बर्फ से आच्छादित पर्वतशृंखलाएँ हैं । गंगा यहाँ मंदाकिनी के नाम से जानी जाती है । मंदाकिनी के बर्फिले पानी में स्नान करना अपने आप में कसौटी है । असह्य ठंडी के कारण लोग नदीतट पर लकडी जलाकर ठंड भगाते है तथा स्नान से लौटने के बाद इसीसे अपने वस्त्र सुखाते हैं । कभीकभा अतिशय ठंड के कारण लोग स्नान के बाद बेहोश हो जाते हैं । फिर भी यहाँ स्नान करने की महिमा होने से लोग श्रद्धा से स्नान करते हैं ।

केदारनाथ मंदिर में काफि बडा शिवलिंग है । मंदिर में जाकर कोई भी व्यक्ति पूजा कर सकता है । हमने भी शिवलिंग की पूजा की । वैसे तो भगवान को सेवा-पूजा की आवश्यकता नहीं होती, यह तो हमारी शुद्धि और पवित्रता के लिये की जाती है । पूजा करने से हमारा हृदय निर्मल होता है, प्रेम से परिप्लावित होता है और ईश्वर के प्रति आकर्षित होता है । भक्तिमार्ग में इसीलिये सेवा-पूजा का स्वीकार किया गया है । सच्चे साधक को इसका आधार लेकर आगे बढ़ना है ।


Today's Quote

Awake. Be the witness of your thoughts. You are what observes, not what you observe.
- Lord Buddha

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.