सरोडा में

बडौदा से हम अहमदाबाद गये । माताजी की हिमालय-यात्रा सुखपूर्वक पूर्ण हुई यह जानके ताराबेन को बडी खुशी हुई । अहमदाबाद आकर मैं दामोदरदास, जिससे मेरी भेंट ऋषिकेश में हुई थी, मिलने गया । उनके घर जाने पर पता चला की ऋषिकेश से लौटने के कुछ समय पश्चात उनका देहांत हुआ था । उनकी पत्नी तथा अन्य कुटुंबीजनो के आग्रह से मैं कुछ दिन उनके साथ रहा । उन्होंने मेरी भावपूर्वक सेवा की ।

दिपावली के बाद हम ताराबेन को साथ लेकर सरोडा आये । साबरमती के तट पर स्थित सरोडा अन्य गाँवो की तुलना में अत्यंत साधारण है । गाँव के ज्यादातर लोग अशिक्षित होने के कारण आपसी मतभेद और रागद्वेष से भरे हैं ।

गाँव के लोगो के लिये मेरे जीवन को समजना अत्यंत कठिन था । वे हिमालय के बारे में कुछ जानते नहीं थे । शांति व मुक्ति की कामना से कोई भरी जवानी में हिमालय जाय, ये उनकी समज में नहीं आता था । उनको मेरा पहनावा विचित्र लगा । मेरे बारे में गाँव में तरह-तरह की बातें होने लगी । यहाँ तक की कुछ लोग मुझे देखने के लिये इकट्ठा हुए । शायद मेरे विचार, वाणी और वर्तन को वे पागलपन समझ बैठे । हालाकि इसमें उनका कोई कसूर नहीं था क्योंकि उनकी आध्यात्मिक भूमिका नहीं थी । मेरे दिल में उनके लिये सिर्फ करुणा थी । पूर्वजन्म का रहस्योद्घाटन होने के बाद वर्तमान जीवन का प्रवाह मेरी समज में आ रहा था, इसलिये मन में किसी भी प्रकार की शंका नहीं हुई, रागद्वेष के अंकुर नहीं फूटे और शांति बनी रही ।

सरोडा में कुछ लोग मुझे समजते थे, जिनमें इश्वरलाल पुराणी तथा रमताशंकर प्रमुख थे । दोनों सज्जन उच्च आध्यात्मिक संस्कारों से संपन्न थे और मुझे बचपन से जानते थे । पुराणी महाराज संस्कृत के पंडित थे । वे भागवत, गीता तथा अद्वैत वेदांत के प्रेमी थे और गृहस्थ होने के बावजूद विरक्त की भाँति अपना जीवन व्यतीत करते थे । रमताशंकर संतपुरुषों की श्रध्धापूर्वक सेवा करते थे । रामायण, महाभारत और भागवत जैसे धर्मग्रंथो का पारायण करना उनका नित्यक्रम था । उन्हें भजन-कीर्तन में विशेष अभिरुचि थी ।

सरोडा कुछ दिन रहने के बाद मैं बंबई गया । बंबई आने के लिये नारायणभाई का बडा आग्रह था । सरोडा में माताजी और ताराबेन के अलावा पिताजी के माताजी (दादी) भी थे । उनका नाम सांकुबा था । उनका हृदय निष्कपट और निष्पाप था । पिछले कुछ सालों से उन्हें ठीक दिखाई नहीं पडता था इसलिये माताजी का सरोडा रहेना आवश्यक था । माताजी मेरे साथ रहना चाहती थी किन्तु सांसारिक बंधन के कारण एसा कर पाना संभव नहीं था । ईश्वर की लीला अपरंपार है, वो कब और कैसे संजोग बनाता है वो कोई नहीं जान पाता ।

सन १९४४ का साल मेरे लिये शकवर्ती सिद्ध हुआ । साल के प्रारंभ में दशरथाचल से लौटकर मैं देवप्रयाग आया, वहाँ मैंने कृष्णदर्शन के लिये व्रत रक्खा । वहाँ से मैं टिहरी गया जहाँ वेदबन्धु से मेरी भेंट हुई । टिहरी में स्वामी रामतीर्थ के स्थान पर जाना हुआ । फिर ऋषिकेश, भगवान आश्रम में अज्ञात महापुरुष के दर्शन का दैवी अनुभव मिला । उत्तरकाशी में कुछ बहुमूल्य आध्यात्मिक अनुभव मिले । जमनोत्री की यात्रा में पूर्वजन्म के ज्ञान मिला । चारों धाम की यात्रा संपन्न हुई । ऋषिकेश में माताजी बीमार हुई फिर भी अयोध्या, मथुरा, काशी, वृंदावन की यात्रा पूर्ण करके हम गुजरात लौटे । इसी एक साल के दौरान मुझे अवनवीन अनुभवों की प्राप्ति हुई तथा आत्मिक शांति मिली । अब आगे क्या होगा, ये तो सिर्फ आनेवाला वक्त बता सकता है ।

 

Today's Quote

Try not to become a man of success but a man of value.
- Albert Einstein

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.