काली आकृति का अनुभव

शायद ही कोई अध्यात्मप्रेमी व्यक्ति रामकृष्ण परमहंसदेव के नाम से अनभिज्ञ होगा । अब तो भारत के अतिरिक्त बहुत सारे देशों में उनका ख्याति फैल चुकी है । अपने जीवन का अधिकांश समय उन्होंने दक्षिणेश्वर में व्यतीत किया था । वहाँ उन्होंने ज्ञान और भगवद् भक्ति की गंगा बहायी थी । रामकृष्णदेव के प्रति मुझे शुरु-से लगाव था, जो वक्त के चलते हुए अभिवर्धित हुआ । रामकृष्णदेव की तपोभूमि तथा उनकी लीलाभूमि को निहारनेकी तीव्र ईच्छा मेरे मन में पैदा हुई । उन दिनों मैं किसी सर्वसमर्थ महापुरुष की तलाश में था, जो मुझे जल्दी-से मेरे साधना-लक्ष्य तक पहूँचा सके । भला रामकृष्णदेव से अधिक उपयुक्त ओर कौन हो सकता था ?

मैं रामकृष्णदेव को ईश्वरतुल्य महापुरुष मानता था । मेरा यह विश्वास था की देहत्याग के पश्चात भी उनके जैसे महापुरुष भक्तों को दर्शन दे सकते है तथा उन्हें सहायता पहूँचा सकते हैं । अवतारी पुरुषों को लिये स्थल व काल के बंधन नहीं होते । मुझे अब तक जो अनुभव मिले थे, उसके बलबूते पर मैं बडे आत्मविश्वास के साथ यह कह सकता हूँ । बडी आश लगाकर मैं रामकृष्णदेव को बिनती करने लगा । मैं चाहता था की वे मुझे दर्शन देकर मेरा मार्गदर्शन करें । एक दिन ध्यानावस्था में मुझे आज्ञा मिली, 'अगर आपको दक्षिणेश्वर जाना है तो जरुर जाईये, वहाँ आपके लिये आवश्यक प्रबंध हो जायेगा ।' यह सुनकर मुझे अत्यंत प्रसन्नता हुई ।

श्राद्ध पक्ष की शरूआत हो चुकी थी । नवरात्रि के दिन अब दूर नहीं थे । दक्षिणेश्वर जाने के लिये मैंने मन-ही-मन दिन निर्धारित किया । उसकी पूर्व-रात्रि को दो बजे के बाद मुझे तरह-तरह के विचार आने लगे । दक्षिणेश्वर का स्थान कैसा होगा ? वहाँ रहना मुझे पसंद आयेगा या नहीं ? क्या हिमालय मेरी साधना के लिये उचित स्थान है ? मनोमंथन से उभरकर दिल-से आवाज़ आयी, जिसने कहा, 'तू वहाँ ईश्वर की मरजी से, उसकी प्रेरणा से जा रहा है । वो तूझे जहाँ भी ले जायेगा, तेरे भले के लिये ही होगा । दक्षिणेश्वर कोई तीर्थस्थान से कम नहीं है । किस्मतवाला ही वहाँ जाकर रह सकता है । तेरा निवास अवश्य लाभदायी रहेगा ।'

मैं शांताश्रम की कुटिया में आसन जमाकर बैठा था । कमरे के भीतर तथा बाहर पूरी तरह से अंधेरा छाया हुआ था । मेरे पासवाली खिडकी बन्द थी तथा दरवाजा अंदर से बन्द था । दाहिनी ओर की खिडकी खुली थी जिसमें से हवा आ रही थी, आसमान में कुछ तारें भी दिख रहे थे ।

अचानक मेरी नजर खिडकी पर पडी । मेरे आश्चर्य की सीमा न रही । एक काले रंग की मानव-आकृति कमरे के अंदर ठीक खिडकी के पास खडी थी । कुटिया का द्वार बन्द था फिर वो अंदर कैसे आयी और कौन थी ? मुझे आनंद और आश्चर्य - दोनों हुए । मेरे लिये डरने की कोई वजह नहीं थी क्योंकि एसे चित्रविचित्र अनुभव मुझे पहले हो चुके थे । इसका जिक्र मैं पूर्व-प्रकरणों में कर चुका हूँ । हालाकि, मैंने अपने सभी अनुभवों के बारे में पाठकों को अवगत नहीं कराया है क्योंकि एसा करना मैं उचित नहीं समझता । मैंने जितना भी बताया है वो इसलिये ताकि साधकों को ये भरोंसा हो की एसे अनुभव आज भी होते हैं, और किसी भी साधक को प्राप्त हो सकते हैं ।

मेरे आनंदाश्चर्य से बेखबर, वह काली आकृति मेरे पास आने लगी । उसका देह काजल जैसा काला था । उसने अपनी दो भूजाओं में मुझे भर लिया और बडे प्यार से कहा, 'यहाँ आप काफि दिन रहें, अब चले जाओगे ? फिर वापिस कब लौटोगे ? हो सके तो जल्दी आना । आपके बिना मुझे यहाँ अच्छा नहीं लगेगा ।'

यह कहकर उसने मुझे अपने बाहुपाश से मुक्त किया । एक-दो मिनट के अनुभव के बाद वह आकृति कुटिया से अदृश्य हो गयी ! उसके शब्द बिल्कुल स्पष्ट और सुमधुर थे । उसे सुनकर मुझे अपूर्व शांति का अनुभव हुआ ।

मैं सोचता रहा की किसी स्वजन की भाँति मेरे प्रति स्नेह जतानेवाली यह मानव-आकृति किसकी थी ? क्या वह किसी सिद्धपुरुष की थी ? क्या वह रामकृष्णदेव की थी ? शांताश्रम के किसी स्थान या तीर्थदेवता की थी ? काफि कुछ सोचने पर भी मुझे यह प्रश्न का जवाब नहीं मिला । भला, आम किस प्रकार की है, कौन से पैड से उतारकर लायी गयी है, कितने दामों में खरीदी गयी है, यह जानकर मुझे क्या करना था ? मेरे लिये तो उसका मधुर आस्वाद तथा उसके फलस्वरूप हुई तृप्ति का अनुभव ही पर्याप्त था । वह मानव-आकृति चाहे किसी की भी हो, उसने मुझे अपने प्रेम का अनुभव करवाया, यही मेरे लिये काफि था । आज मैं यह कह सकता हूँ की वह काली मानव-आकृति मा जगदंबा की थी । उसे याद करके मैं अवनविन रोमांच का अनुभव करता हूँ । 'मा' का यह प्रेमबंधन हमेशा रहे, 'मा' की वाणी और शब्द हमेंशा सुनने को मिले, 'मा' के मधुर मुख का दर्शन हरहमेश हो, तभी जीवन का परम साफल्य होगा । साधक को एसे अनुभवों को अंतिम मानकर रुकना नहीं है मगर 'मा' का अखंड सानिध्य पाने के लिये प्रयत्नशील रहेना है, चलते रहेना है ।

*

रात्रि की निरव शांति में गंगाजी की ध्वनि दूर तक सुनाई पडती थी । बारिश के कारण शांता नदी का प्रवाह भी तेज था, मानों वह हिमालय के प्राचीन और अर्वाचीन ऋषिवरों का जयगान गा रहा था । मेरी कुटिया के भीतर तथा बाहर अंधेरा था । तब मेरी नजर कमरे के कोने में पडी । मैंने देखा की वहाँ छोटा-सा दीपक जल रहा है और उसके हल्के उजाले में रमण महर्षि की मुखाकृति स्मीत कर रही है । मैंने महर्षि को फौरन पहेचान लिया । दो-चार मिनट दर्शन का अनुभव मिलता रहा । फिर दिपक और महर्षि – दोनों अंधरे में घुलमिल गये । कुटिया में फिर-से अंधेरा हो गया ।

महर्षि जैसे सिद्ध महापुरुष अपनी मरजी से, किसीको भी, कहीं पर दर्शन देने के लिये समर्थ हैं । महर्षि जैसे कई महापुरुष आज भी मौजूद है । वे अपनी अलौकिक शक्ति से साधक की सहायता कर सकते हैं । उन्हें देश या काल के बंधन नहीं होते । मगर आम आदमी सांसारिक उलझनों में एसा फँस जाता है, कामवासना, अहंकार तथा अपनी सीमित बुद्धि का दास हो जाता है, की उसे इसके अलावा कुछ सुझता ही नहीं है । अगर वह सर्वशक्तिमान परमात्मा की कृपा पाने के लिये आवश्यक यत्न करें तो उसे अवश्य पा सकता है । हाँ, ये भी सही है की हजारों या लाखों में एकाद आदमी एसा कर पाता है ।

कुछ ही देर में उजाला हुआ । स्नानादि से मुक्त होकर मैंने शांताश्रम को अलविदा कहा । शांताश्रम की पावन भूमि को प्रणाम करके, उसकी पावन रज को शिर पर चढाकर मैं बस अड्डे की ओर चल पडा । वो दिन ३० सितम्बर १९४५ और सोमवार का था ।

 

होते

Today's Quote

From the solemn gloom of the temple, children run out to sit in the dust, God watches them play and forgets the priest.
- Rabindranath Tagore

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.