चंपकभाई की क्षयरोग से मुक्ति

मैं सिमला के धरमपुर स्थित सुप्रसिद्ध टी. बी. सेनेटोरियम में जा पहूँचा । आलमोडा से लौटने पर मैंने मौनव्रत धारण किया था । धरमपुर पहूँचने के दो-तीन दिन बाद मैंने उसकी समाप्ति की ।

सेनेटोरियम पहाडों की गोदी में चीड और देवदार के लंबे-घने वृक्षों के बीच है । उसकी प्राकृतिक शोभा देखते ही बनती है । वहाँ जाकर मैंने चंपकभाई का कमरा ढूँढा । चंपकभाई एक खाट पर सोये हुए थे । उनका शरीर काफि अशक्त लगा । मुझे देखकर उन्हें बेहद आनन्द हुआ । देवप्रयाग से धरमपुर तक का लम्बा सफर आसान तो नहीं था मगर चंपकभाई को देखकर मेरी थकान दूर हो गई । मुझे ये भी लगा की मेरा यहाँ आना सार्थक है ।

दुसरे दिन चंपकभाइ ने मुझे अपनी आपवीती संक्षेप में सुनायी । उनका एक फेफडा ठीक नहीं था, दुसरा फेफडा भी दिन-प्रतिदिन बिगड रहा था । डॉक्टर ने उन्हें साफ शब्दों में बताया थी की उनकी ठीक होने की संभावना नहीं है । उनका लहु अशुद्ध हो गया है । चंपकभाईने अपने जीने की आशा बिल्कुल छोड दी थी और वे शांतिपूर्वक मरने की तैयारी कर रहे थे । पंद्रह दिन के बाद डॉक्टर उनकी फिर जाँच करनेवाले थे । उनके फेफडे का एक्स-रे निकालने वाले थे । चंपकभाई की निराशा और पीडा का अन्त नहीं था । उन्होंने अपनी व्यथा और वीतक-कथा मुझे सुनायी और मेरी सहायता के लिये प्रार्थना की ।

चंपकभाई को मुझ पर भरोंसा था, मगर कोई चमत्कार करने की मेरी हेसियत नहीं थी । मैं सिर्फ उनको हिम्मत दे सकता था, ईश्वर से उनकी सेहत के लिये दुआ कर सकता था । मैंने उन्हें ढाढस बँधाते हुए कहा की ईश्वर की कृपा से आप बिल्कुल ठीक हो जायेंगे । जो परमात्मा गूँगे को बोलता कर दे, पंगु को पर्वत चढने की ताकत दे दें, उसके लिये आपको ठीक करना असंभव नहीं है । ईश्वर सर्वशक्तिमान है, अगर आप उसका सुमिरन करें तो आप अवश्य ठीक हो जायेंगे ।

मैं हररोज, करीब एक घण्टे तक, उनके पास बैठकर उनके शरीर पर हाथ फेरता और भावपूर्वक प्रार्थना करता । प्रार्थना करते वक्त मेरी आँखो से बोर-बोर आँसू निकल पडते । चंपकभाई उसे महसूस करते थे । मैंने उन्हें भरोंसा दिलाते हुए कहा की पंद्रह दिन के बाद जब दाक्तर फिर-से जाँच करेंगे तब आपके रीपोर्ट अच्छे आयेंगे । आपका फेफडा भी अच्छा हो जायेगा, लहु भी अच्छा हो जायेगा और डोक्टर को अपनी राय बदलनी पडेगी ।

'एसा कैसे हो सकता है ?' मानो उनको मेरी बातों पे यकीन नहीं आ रहा था । 'मगर यदि एसा होता है तो वो एक चमत्कार ही कहलायेगा ।'

'परमात्मा की कृपा से सबकुछ हो सकता है, जिसकी हमें कल्पना नहीं होती एसी घटनाएँ भी घटती है । हमें केवल सच्चे दिल से उसका शरण लेना है, प्रार्थना करनी है । हमारी बात वो सुनें या ना सुनें, यह उस उपर निर्भर है । हमें तो अपने दिल की गहराईयों से उसे पुकारना है ।

मेरी बात सुनकर उन्हें अचरज होता था, मगर जब डोक्टरने कुछ दिनों के बाद आकर बताया की उनका लहु बिल्कुल ठीक है, तो उनके आश्चर्य की सीमा न रही । डोक्टर ने कहा, 'तुम्हारा लहु इतने कम समय में कैसे ठीक हो गया, ये मुझे मालूम नहीं । मैंने तो आपके लिये उम्मीद का दिया बुझा दिया था । मगर अब आपको निराश होने की जरूरत नहीं है । आपके फेफडे की हालत भी पहले से बेहतर है ।'

अगले पंद्रह दिनों में चंपकभाई के दोनों फेफडे पूरी तरह से ठीक हो गये । डोक्टरने आकर उन्हें बताया की आप गंभीर बिमारी से बच निकले हैं । मानो आपको नया जीवन मिला है । मेरे खयाल में तो यह घटना चमत्कार से कम नहीं है ।

चंपकभाई ने डोक्टर को मेरे बारे में तथा मेरे द्वारा की गयी प्रार्थना के बारे में बताया । तब डोक्टर ने कहा की सचमुच यह प्रार्थना का चमत्कार है । इसके अलावा एसा होना असंभव है । आपको एसे संत मिले है, यह आपका सदभाग्य है ।'

कुछ देर के बाद डोक्टर हँसते हुये बोले, 'मैं भी संतो का बडा आदर करता हूँ । मेरे मातापिता ने मुझे एसा सिखाया है । मगर सेनेटोरियम में अगर इस तरह से संतमहात्मा आयेंगे तो मेरा घंघा चोपट हो जायेगा । फिर मेरी घर बैठने की नौबत आयेगी ।'

 

Today's Quote

There are only two ways of spreading light - to be the candle or the mirror that reflects it.
- Edith Wharton

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.