धरमपुर के सेनेटोरियम में

ईश्वर की कृपा से चंपकभाई ठीक हो गये । मुश्किल हालातों में हमें ईश्वर का शरण लेना चाहिये । धबराने से हमारे दुःखदर्द कम नहीं होते । मेरे कहने का गलत अर्थ मत निकालना की सिर्फ आपत्ति के समय में हमें ईश्वर को याद करना है । सुख हो या दुःख, हमें तो सभी परिस्थितियों में उसका स्मरण करना है । आपत्ति आने पर प्रार्थना करने में कोई बुराई नहीं है, मगर परिस्थिति सानुकूल हो जाने के बाद हमें उसे भूलना नहीं चाहिए । उसकी अधिकाधिक कृपा के लिये उसे पुकारता रहना चाहिये । जब प्रार्थना से शरीर के रोग मिट सकते हैं तो यह भवरोग क्यूँ नहीं मिटेगा । हमें चाहिये की औषधों की आजमाईश करने के साथ-साथ ईश्वर की कृपा के लिये भी प्रयत्न किये जाय । तब जाकर हमारे बाह्य एवं आंतरिक व्याधि निर्मूल होंगे ।

डोक्टर ने जब चंपकभाई की सेहत का अच्छा रिपोर्ट दिया तो उनकी खुशी का ठिकाना न रहा । मैंने उनसे कहा, 'अब तुम्हें हिंमत हारने की जरूरत नहीं है । अभी तो आपको शादी करनी है, और हो सके तो कुछ ही महिनों में ।'

मेरे शब्द सुनकर वे दंग रह गये । क्षयरोग की बिमारी से पिडीत आदमी शादी करने की बात भी कैसे सोच सकता है ? और मान लो की वो एसा सोच भी ले तो कौन उसके साथ पूरी जिन्दगी बिताने के लिये राजी होगा ?

मैंने उन्हें अपनी पसंदीदा कन्या पर पत्र लिखने के लिये बाध्य किया । कुछ ही दिनों में उसका प्रत्युत्तर आया । वो लडकी भी हिंमतवाली थी । चंपकभाई को क्षयरोग की बिमारी है, एसा ज्ञात होने के बावजूद और उसके सगेसंबंधीओं के समजाने के बाद भी वो चंपकभाई के साथ शादी करने के लिये राजी थी । यहाँ तक की उसने लोगों को बताया की अगर चंपकभाई के साथ उसकी शादी नहीं होती है तो वो किसी और के साथ शादी नहीं करेगी और आजीवन अविवाहित रहेगी । आखिरकार, चंपकभाई की शादी उसी लडकी, जिसका नाम कनकबेन था, संपन्न हुई । ईश्वर की कृपा और करुणा से संसार में क्या नहीं हो सकता ?

चंपकभाई मेरे साथे रह चुके थे । वो मेरी आध्यात्मिक भूमिका को कुछ हद तक समझते थे । मैंने उनको मेरी भावनाओं से अवगत कराना ठीक समजा । मैं चाहता था की मैं परमात्मा की पूर्ण कृपा प्राप्त करूँ, सिद्ध बनूँ और मानव कल्याण के कामों में अपने आप को जोड दूँ । मेरी बात सुनकर वह प्रसन्न हुए । मगर सिद्धि प्राप्त करने के पश्चात् मैं लोगों के काम कैसे आउँगा, इसके बारे में उन्हें शंका थी । उन दिनों में उन्हें एक अनुभव मिला । उन्होंने मुझे उसके बारे में बताया ।

'कल रातको आपने मुझे जो कुछ बताया, उसीको लेकर मेरे मन में कुछ प्रश्न थे । तब आप मेरे स्वप्न में आये । आपका स्वरूप अत्यंत तेजोमय था । आपको देखकर मेरे अंतर में यह भावना का उदय हुआ की आपने जो कुछ कहा, वह सत्य होगा । मेरी संशयवृत्ति इस अनुभव के बाद शांत हो गयी ।'

फिर मुझे दुसरा स्वप्न आया । एक काला, भयंकर दिखनेवाला आदमी मुझे आकर डराने लगा । मुझे लगा की मेरा काल आ गया है । तब मैं धबराकर आपके पास आया । जैसे ही मैं आपके पास आया, वह आदमी निराश होकर बोला, अब मेरा काम नहीं बनेगा । अगर तुम उनके पास नहीं गये होते तो मैं तुमको ले जाता ।'

एसे विस्मयजनक अनुभवों की चर्चा करते हुए हमारा वक्त कटता रहा । कभी हम साथ-साथ भावपूर्ण हृदय से भजन गातें । कभी हम कोई समर्थ सिद्ध संतपुरुषों की बाते करते, कभी मेरे भावि जीवन के बारे में योजना करतें ।

धरमपुर टी. बी. सेनेटोरियम के दिनों में मेरे भोजन का प्रबंध एक सिंधी सदगृहस्थ के यहाँ किया गया था । वो भी क्षयरोग की बिमारी से पिडीत थे । उनके आग्रह से मैं उनकी सेहत के लिये प्रार्थना करता था । उन्होंने सुना की चेल के पास एक सिद्ध महापुरुष हैं जो बिमार लोगों को आशीर्वाद देतें है और रोगमुक्त करतें हैं । स्वाभाविक रूप से उन्हें सिद्ध महात्मा के आशीर्वाद की कामना थी । मगर उनकी तबियत एसी नहीं थी की वो स्वयं चेल जा सके । उन्होंने मुझे कहा, 'मैं अपने रसोईये को सिद्धपुरष के पास आशीर्वाद के लिये भेज रहा हूँ । अगर आप चाहें तो उसके साथ जा सकतें हैं । आपको नयी जगह देखने का अवसर मिलेगा । आप वापिस आकर मुझे महात्मा के बारे में अपना अभिप्राय बताना ।'

सिद्ध महापुरुष के दर्शन समागम की बात सुनकर मैंने सिन्धी शेठ का प्रस्ताव स्वीकार किया । मगर वहाँ जाने के पूर्व घटित एक प्रसंग का यहाँ उल्लेख करना मैं ठीक समजता हूँ ।

Today's Quote

Inspiration is a guest who does not like to visit lazy people.
- Tchaikowsky

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.