माँ आनंदमयी से भेंट - १

सेनेटोरियम के दिनो में मेरे भोजन का प्रबंध सिंधी शेठ के यहाँ था । शेठ के परिवारजन शेठ के कहने पर सोलन में रहते थे । सोलन सिमला से करीब दस माईल की दूरी पर स्थित सुंदर पर्यटक स्थल था । हर इतवार को शेठ अपने परिवारजनों को मिलने सोलन जाते थे । एक इतवार, उन्होंने मुझे अपने साथ चलने का आग्रह किया । मैंने उसका सहर्ष स्वीकार किया । नैसर्गिक सौन्दर्य और वनराजी से भरपूर पहाडीयों से गुजरते हुए हम कुछ ही देर में सोलन आ पहूँचे ।

सोलन के छोटे-से बाजार से गुजरते हुए हम एक शांत ईलाके में आ पहूँचे, जहाँ सिन्धी शेठ का मकान था । उनके परिवारजनों ने मेरा स्मितपूर्वक सत्कार किया । वहाँ मेरी भेंट 'स्वाध्याय सदन' के संस्थापक एवं संचालक, पंडित श्री हरदेव शर्मा से हुई । वे विद्वान होने के अतिरिक्त नम्र, निराभिमानी और अत्यंत स्नेही लगे । उनका इश्वर तथा उनके अनुग्रहप्राप्त संतो के प्रति विशेष आदरभाव मुझे हमेशा याद रहेगा । वे जनहित के कार्यो में जुडे हुए अनोखे कर्मयोगी थे । उन्होंने मुझे बताया की माता आनंदमयी एवं हरिबाबाजी सोलन आयें है । मुझे यह सुनकर बडी प्रसन्नता हुई । कुछ समय पहले मैं माता आनंदमयी के दर्शन हेतु उनके आल्मोडा स्थित आश्रम गया था मगर मेरा प्रयास विफल रहा था । अब आश्चर्यजनक रीत से यहाँ उनके दर्शन का सुयोग उपस्थित हुआ । जीवन में एसा कई बार होता है जिसकी हमें कल्पना नहीं होती ।

माता आनंदमयी से भेंट करने का अनुपम अवसर मिलने पर मुझे बेहद खुशी हुई । और क्यूँ न हो ? ईश्वर ने फिर एक बार मेरी बात सुन ली थी । ईश्वर की कृपा से मेरी हर मनोकामना पूर्ण हुई है । मा आनंदमयी के दर्शन का सुअवसर मिलना इसी बात का प्रत्यक्ष प्रमाण था । शाम चार बजे के बाद माताजीको मिलने के लिये हम उनके स्थान पर गये । पहाडीयों के बीच अत्यंत मनोहर स्थान पर उनका निवास था । वहाँ से सोलन शहर तथा आसपास का नजारा देखते ही बनता था ।

माता आनन्दमयी के निवासस्थान के आसपास दो-चार बहनें दिखाई दी । कुछ देर प्रतिक्षा करने पर द्वार खुले और हम अंदर गये । माता आनंदमयी अंदर खडे हुये थे । हमें देखकर उन्होंने स्मित किया । उनको प्रेमपूर्वक प्रणाम करके हम नीचे बैठ गये । मैं माताजी के मुखमंडल को निहारने लगा । उनका मुखमंडल शांत, तेजस्वी, सहज और निर्दोष आनंद से भराभरा था । उन्होंने श्वेत वस्त्र धारण किये थे । बाल कालें और खुले हुए थे । उनका दर्शन चित्ताकर्षक, आहलादक और आनंददायक था । उनकी उपस्थिति से आसपास का वायुमंडल सजीव लग रहा था ।

जैसे ही हम उनके कमरे में दाखिल हुए, उन्होंने मेरी ओर देखकर कहा, 'आ गये ?' फिर उन्होंने कहा की मैंने उनके दर्शन पहले भी किये है, मगर ध्यानावस्था में । एक बार उन्होंने मुझे ध्यान में अंतःस्फूरणा से ये भी पूछा था की 'क्या एसा ही वेश हमेशा रखोगे ?'

उस वक्त मेरा बाह्य परिवेश कैसा था ? घूटनों तक आनेवाला खादी का सफेद टुकडा, शरीर पर खादी की सफेद चद्दर, कौपीन, दाढी और जटा । सन १९४२ से लेकर सन १९५७ तक मेरा बाह्य परिवेश एसा था । हालाकि सन १९५० में मैंने इश्वरीय प्रेरणा से कुछ वक्त के लिये दाढी निकाल दी थी ।

मैंने अपने आल्मोडा आनेकी वजह उनको बताई । कुछ देर में हरिबाबा आ पहूँचे । हरिबाबा उत्तर भारत के विद्वान, शास्त्रज्ञ और प्रसिद्ध संतपुरुष थे । वे माता आनंदमयी की उपस्थिति में तुलसीकृत रामायण का पाठ करते थे और उपस्थित श्रोताओं को समजातें थे ।

मैं माता आनंदमयी के मुखमंडल को निहारता रहा । वे नम्रता, सरलता, शुचिता और ईश्वरीय प्रेम की प्रतिकृति समान थे । उनके दर्शन से उनकी अंतरात्मा की शुचिता का अनुमान करना मुश्किल नहीं था । उनकी उपस्थिति से आसपास का वायुमंडल कोई अलौकिक अपार्थिव तत्व से भर जाता था । मैंने उनसे कुछ दिन रहने की अनुमति माँगी । उन्होंने मेरी प्रार्थना का सहर्ष स्वीकार किया । दो-चार दिनों के बाद, सोलन से यहाँ आकर माता आनंदमयी की पावन संनिधि में रहने का अवसर मिलेगा, यह सोचकर मैं पुलकित हो उठा ।

कई दिनों से मेरे मन में यही कामना थी । इसका सुखद समाधान होने पर मुझे प्रसन्नता क्यूँ न होगी भला ? माँ जगदंबा ने अपनी विशेष करुणा से मेरे लिये यह अवसर उपस्थित किया था । अब तक जिन-जिन व्यक्तिओं से दर्शन, समागम या आध्यात्मिक मार्गदर्शन की मैंने ख्वाहिश की थी, उन सभी व्यक्तिओं से उसने मेरी भेंट करवायी थी । अंततः मेरा मन उपराम करके अपनी ओर खींच लिया था । उसने मुझे सिर्फ अपने आप पर भरोंसा करना सिखाया था । उसकी कृपा का चातक बनाया था । इसके बारे में आगे के प्रकरणों में चर्चा होगी । फिलहाल तो हम सोलन और धरमपुर के बीच का रास्ता तय कर रहें है ।

जल्दबाजी में अभिप्राय
सिन्धी शेठ के साथ मार्ग में आनंदमयी माता के बारे में बात हुई ।

उन्होंने मुझे पूछा : 'क्या आप माँ आनंदमयी को जीवनमुक्त मानते हो ?'

मैंने कहा : 'हाँ, वे एक उच्च कोटि की, असाधारण, अनुभवसंपन्न साध्वी है । क्या आपको एसा नहीं लगता ?'

वो बोलें : 'जीवनमुक्त के मुँह पे मक्खियाँ बैठती है क्या ? आपने देखा नहीं की किस तरह उनके मुँह पर मक्खियाँ बैठती थी, और पास बैठी बहनें रुमाल से या पंखा हिलाकर उसे भगाने की कोशिश करती थी ? मैं तो उन्हें जीवनमुक्त नहीं मानता । मुझे तो वह ढोंगी लगती है । उनके आसपास जवाँ लडकियाँ बाल खुले रखकर घुमा करती है, शायद माँ आनंदमयी का अनुकरण कर रही हो । मुझे तो लडकियाँ भी चंचल और विलासी लगी । सच बताउँ तो वहाँ का माहौल मुझे ठीक नहीं लगा ।'

मुझे उनकी सोच विचित्र लगी । मैंने उन्हें समजाने की कोशिश की : 'एसा किसने कहा की जीवनमुक्त व्यक्ति के मुँह पर मक्खियाँ नहीं बैठती ? मक्खियाँ बैठने से क्या होता है ? और अगर कोई लडकी उसे उडाने की कोशिश करती है तो उसमें बुरा क्या है । इससे मा आनन्दमयी की अवस्था में क्या फर्क पडता है ? और रही बात लडकियों की तो वो अपने मातापिता या रिश्तेदारों के साथ माता आनन्दमयी के दर्शन एवं सत्संग के लिये आयी थी । आप उन लडकियों में इश्वरीय प्रकाश का दर्शन क्यूँ नहीं करते ? जो स्वयं विलासी है, उसे तो कोई भी विलासी लगेगा । जीवनमुक्त व्यक्ति की परीक्षा उनके मुँह पर मक्खियाँ बेठने या न बैठने से नहीं होती । उनकी असली पहचान तो उनका ज्ञान, उनकी शांति, स्थिरता, काम-क्रोध-रहितता और जितेन्द्रिय होने से होती है । किसी के बाह्य परिवेश से उनका मूल्यांकन करना ठीक नहीं है ।'

मगर वो अपनी बात पर दटे रहें । शायद वो अपने आपको विशेष बुद्धिमान और संतपुरुषों के जौहरी मानते थे । मैंने इस बारे में उनसे ज्यादा बात करना मुनासिब नहीं समजा । बहुत सारे लोग संत-महात्माओं की आलोचना करना अपना अधिकार मानते है । वे अपनी हैसियत के मुताबिक उनकी परीक्षा करते हैं और अभिप्राय देते हैं । जल्दबाजी में किये गये एसे मूल्यांकन और उनके फलस्वरूप दिये गये अभिप्राय ज्यादातर गलत होते है । महात्मा पुरुषों के बारे में कुछ भी बोलने से पहले चिंतन-मनन करना आवश्यक है । हो सके तो उनके निकट परिचय में आने के बाद तथा उनके जीवन का प्रत्यक्ष निरीक्षण करने के बाद ही किसी प्रकार का बयान देना चाहिये । जब साधारण व्यक्ति को पहचानने में हम धोखा खा जाते हैं तो जीवनमुक्त महापुरुषों को एक दफा मिलने से उन्हें कैसे समज पायेंगे ?

मैंने कहा : 'माँ आनंदमयी के दर्शन करने फिर कभी चले जाना । शायद आपका मंतव्य बदल जाय ।'

मगर मक्खियों पर अटके हुए उन्होंने मा आनंदमयी के पुनःदर्शन का खयाल मन से निकाल दिया । वो सोलन गये मगर मा आनन्दमयी को नहीं मिले । अपने एसे निर्णय पर उन्हें गर्व था मगर वो कितने गलत थे वो कौन उन्हें बतायेगा ?

हाँ, अगर दूसरी रीत से देखा जाय तो सिंधी शेठ बहुत धर्मप्रेमी, संतचरणानुरागी, सेवाभावी, नम्र और दयालु थे । चंपकभाई के अलावा सेनेटोरियम में दाखिल एक ओर दर्दी के भोजन का प्रबंध भी उन्होंने किया था । मेरी सुविधाओं का भी वो अच्छी तरह से खयाल रखते थे ।

Today's Quote

God writes the gospel not in the Bible alone, but on trees and flowers, and clouds, and stars.
- Luther

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.