माँ आनंदमयी से भेंट - २

तारीख २ जून १९४६ के दिन सोलन में माता आनंदमयी से मेरी भेंट हुई । फिर पूरा जून मास मैं वहाँ रहा । उन दिनों की कुछ बातें यहाँ बताना उचित समजता हूँ ।

धरमपुर लौट आने के तीन दिन बाद मैं फिर सोलन गया और माँ आनन्दमयी को मिला । माताजीने एक बंगाली सदगृहस्थ को मेरी महेमाननवाजी सौंपी, जो खुद माँ आनन्दमयी के दर्शन-सत्संग हेतु बंगाल से आये थे । उन्होंने मेरे रहने का इन्तजाम तो कर दिया मगर उनके साथ रहना मुझे रास नहीं आया । उनका खानापीना और रहनसहन भिन्न होने के कारण मुझे उनसे अलग होना पडा । माता आनन्दमयी से सत्संग करने तकरीबन पचास सत्संगी वहाँ ठहरे थे । उनके लिये स्वतंत्र भोजनगृह था, जिसका खर्च सोलन-नरेश देते थे ।

जैसे की मैने बताया, सोलन के सुप्रसिद्ध जयोतिषी श्री हरदेव शर्मा से मेरा परिचय हुआ था । उनके पास एक छोटा-सा मकान खाली पडा था । उन्होंने मुझे वहाँ रहने की अनुमति दी । इस तरह मेरा रहने का प्रश्न सुलझ गया । मैं माता आनन्दमयी के साथ साधना विषयक वार्तालाप करके उनका मार्गदर्शन पाना चाहता था । मैं सानुकूल समय की तलाश में था क्योंकि पूरे दिन माता आनन्दमयी के कमरे में कुछ-न-कुछ सत्संग का कार्यक्रम चलता रहता था । सुबह में हरिबाबा कीर्तन करने के लिये आते थे । नौ से ग्यारह के बीच माताजी का जीवनचरित्र पढा जाता था । फिर विश्राम रहता था । शाम को छे से साडे सात के बीच सोलन के राजमाता आते थे । उस वक्त किसी भी भाइयों को प्रवेश नहीं मिलता था । रात को आठ से दस के बीच भजन-कीर्तन एव सत्संग होता था । यह समयक्रम के भीतर माताजी से व्यक्तिगत मिलने का वक्त जुटा पाना मुश्किल था मगर मुझे परमात्मा की कृपा पर विश्वास था ।

एक दिन शाम को माँ आनन्दमयी ने भक्तजनों से व्यक्तिगत भेंट करने के लिये वक्त निकाला । जब मेरी बारी आयी तो मैंने अपने दिल की बात बताई । उन दिनों में मेरा अंतर भावप्रधान था । मैंने माता आनन्दमयी को मेरे पूर्वजन्म तथा वर्तमान जीवनप्रवाह से अवगत कराया । मेरे पूर्वजन्म की बात सुनकर शायद उन्हें अच्छा नहीं लगा । पूर्वजन्म जैसे गंभीर अनुभव को प्रगट करने में मुझसे जल्दबाजी हो गई एसा लगा । मेरा आशय शुभ था मगर वक्त सही न था । जो गल्ती हो चुकी थी उसे तो मैं सुधार नहीं सकता था । मगर मैंने तय किया की आगे जाकर मैं किसीको अपने अंतरंग आध्यात्मिक अनुभवों के बारे में नहीं बताउँगा । केवल प्रगाढ परिचय या अनिवार्य आवश्यकता होने पर ही किसी के आगे उसका उदघाटन करुँगा ।

माता आनन्दमयी की प्रतिक्रिया से मुझे उनकी शक्ति या सुयोग्यता के बारे शंका नहीं हुई । हाँ, ये जरुर लगा की जो विशेष हेतु से मैं यहाँ आया था वो साध्य नहीं होगा । माँ आनन्दमयी से मेरी भेंट कराने के लिये मैंने माँ जगदम्बा का आभार माना । अगर उनसे यूँ भेंट न होती तो मेरी एक ख्वाहिश अधूरी रह जाती । जो भी ईश्वर का शरण लेता है उसकी सर्व मनोकामना पूर्ण होती है । उसका कभी, किसी भी कारण अमंगल नहीं होता ।

मैंने माता आनन्दमयी से भविष्य में आकर रहने के बारे में पूछा तो उन्हों ने कहा : 'दीदी को खत लिखने से आपको माहिती मिल जायेगी । अगर मैं एकांत में जाउँगी तो आपको बुलाउँगी ।'

उनका उत्तर सुनकर मुझे तसल्ली हुई । मैंने उनको भावपूर्वक प्रणाम किया । मेरे मन में जो जो प्रश्न थे उसका उत्तर मुझे मिल चुका था इसलिये अब रुकने की आवश्यकता नहीं थी ।

रात को कुछ वक्त मैं सुप्रसिद्ध पंडित श्री हरदेव शर्मा पास बैठा । वे अति नम्र, प्रामाणिक, बुद्धिशाली एवं प्रेमी व्यक्ति थे । मेरी जन्मकुंडली का निरीक्षण करके उन्होंने बताया की 'लाखो में किसी एक की कुंडली एसी होती है । एसी कुंडली भगवान कृष्ण एवं राम की थी । आपकी कुंडली तो कोई अवतारी महापुरुष की है ।' उनकी बातें आश्चर्यकारक एवं रोचक थी । कोई ज्योतिषी ही उनके कथन की सत्यासत्यता के बारे में बता सकता था । मैं तो साधनापथ का एक साधारण यात्री था । मुझमें कई त्रुटियाँ थी, जिसे दूर करके मुझे पूर्णता में प्रतिष्ठित होना था । किसी के कहने पर मैं अपने आपको पूर्ण और मुक्त कैसे मान लूँ ? अवतारी महापुरुष सुनने में भले अच्छा लगे, उसकी जिम्मेवारी का मुझे अहेसास था । मगर पंडितजी मेरी बात कहाँ सुनने वाले थे । उन्होंने अपनी बात दोहराई 'आपका जीवन उज्जवल है तथा आगे जाकर अधिक उज्जवल होगा ।'

मैंने उन्हें धरमपुर जानेका मेरा निर्णय बताया । उनकी ख्वाहिश थी की मैं कुछ दिन सोलन में रहूँ । मगर मैं अपने निर्णय में दटा रहा । दुसरे दिन सुबह एक हाथ में पितल का डिब्बा और दूसरे में खादी का थैला लेकर मैं धरमपुर के लिये चल पडा । तकरीबन दस मिल की दूर पैदल तय करके ग्यारह बजे मैं धरमपुर पहूँचा । मुझे देखकर सिन्धी शेठ बहुत प्रसन्न हुए । कहने लगे : 'मैंने आपको नहीं कहा था की आपको वहाँ पसंद नहीं आयेगा ? ये जगह कितनी बढ़िया है । अब कहीं मत जाना, यहीं रहना ।'

उनसे विशेष चर्चा करना बेमतलब था । भोजन के पश्चात मैं चंपकभाई को मिलने गया और उन्हें अपने अनुभवों के बारे में बताया ।

Today's Quote

If you want to make God laugh, tell him about your plans.
- Woody Allen

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.