माँ आनंदमयी से भेंट - ३

धरमपुर लौट आने के बाद सिन्धी शेठ के आग्रहवश होकर मुझे पुनः सोलन जाना पडा । सोलन में माँ आनंदमयी से मिलने का संयोग उपस्थित हुआ ।

जब मैं माताजी के निवासस्थान पर गया तो माताजी अपने के कमरे के बाहर कुछ दर्शनार्थी बहनों से बातचीत कर रहे थे । मुझे देखकर वे अत्यंत भावपूर्ण स्वर में बोलें: 'अरे, आप बिना बतायें किधर चले गये थे ? हमें खबर तक नहीं की ! ?'

मैंने कहा : 'यहाँ ज्यादा रहने की मेरी ईच्छा नहीं थी इसलिये मैं चुपचाप निकल गया ।'

उनकी आँखों से प्रेमाश्रु छलक पडे । वे कुछ भावुक होकर बोले: 'हाँ, आप यहाँ क्यूँ रहोगे ? आपकी सेवा करनेवाले तो बहुत होंगे ।'

मेरे लिये उनका यह अलग स्वरूप था, उनके विराट व्यक्तित्व के विभिन्न पहलूओं में से एक । उनकी बहुमुखी प्रतिभा में ओर क्या-क्या छीपा था वो कौन जान सकता है ? हम तो इसकी कल्पना भी नहीं कर सकते ।

फिर सब लोग अंदर होल में गये । मैं माताजी का मुखमंडल निहारता रहा ।

कुछ देर बाद उन्होंने कहा : 'गुजराती भजनों का लय-ताल कैसा होता है ? अगर आप हमें सुना दे तो शुक्रिया ।'

'गुजराती भजन का लय-ताल और भाव भी सुंदर होता है । अगर आपकी मरजी है तो मैं जरूर सुनाउँगा ।'

उनकी संमति मिलने पर एक बहन ने मुझे मंजीरा लाकर दिया ।

तब माताजी ने बडे सहजभाव से कहा : 'भोजन के लिये सब मेरी प्रतिक्षा कर रहें है । अभी बुलावा आयेगा ।'

मैंने उन्हें भोजन को प्रथम न्याय देने का मशवरा दिया । भोजन करके कुछ ही देर में वे होल में आये और बोले : 'हाँ, अब सुनाओ ।'

मैंने भजन शुरु किया :

सकळ सृष्टिनुं मधु लइने बन्युं म्हारी 'मा'नुं मुख.

प्रेम लइने सकळ सृष्टिनो प्रकट थयुं ए पुष्प प्रफुल्ल,
उषाकमळनी रक्तिमाभर्युं, अमृतनुं जाणे ए मूळ ... सकळ सृष्टिनुं

अशांति एने स्पर्श करे ना, परम शांत मंगल मधुरूप,
अशुद्धिनी छाया ना एमां, शांतिस्थान सौनुं ज्यम द्रुम ... सकळ सृष्टिनुं

ए नयनो गंगाजमना ने सूर्यचंद्रतारकनां मूळ,
सुंदर सत्य सनातन सर्वनुं ए मुख पूर्ण पुरातन मूळ ... सकळ सृष्टिनुं

स्वर्ग मुक्तिनी करी कल्पना कविए जोइने ए मुख,
'पागल' मुखने जोइ जोइ हुं तो वही जउं रसने पूर ... सकळ सृष्टिनुं
*
फिर मैंने भजन का भावार्थ समजाया । उनको भजन का भाव बहुत पसंद आया इसलिये उसे लिपिबद्ध करने की कुछ बहनों को आज्ञा की । उसका अनुसरण करते हुए कुछ बहनों ने उसे लिपिबद्ध भी किया । फिर मैंने एक ओर भजन सुनाया और बाद में सत्संग खत्म हुआ ।

वहाँ एक अंग्रेज सन्नारी भी थी, जो की आध्यात्मिक प्रेरणा, पथप्रदर्शन तथा शांति की कामना से भारत आयी थी । वो महर्षि अरविन्द तथा रमण महर्षि से दर्शन-सत्संग कर चुकी थी । अब वो माँ आनन्दमयी की संनिधि में आकर शांति का अनुभव कर रही थी । इस संसार में किसको किससे प्रेरणा एवं पथप्रदर्शन मिलेगा यह बताना मुश्किल है । यह पूर्वजन्म के संस्कारों के अधीन होता है और केवल स्वानुभव से समज में आता है । शायद पूर्व के किसी प्रबल संस्कारों के कारण वह भारत आयी थी और यहाँ के प्रातःस्मरणीय संतपुरुषों की संनिधि में जीवन की धन्यता का अनुभव कर रही थी । माता आनन्दमयी के पास आकर उसे शांति मिली थी । उसको मेरे भजन का भावानुवाद पसंद आया । उसने कहा: 'आपका भजन मेरे मन को छू गया ।'

शाम होते हम धरमपुर लौटे । पंडित श्री हरदेव शर्मा के प्रेमाग्रह से मैं कुछ दिन सोलन रहा । तब फिर माताजी से मिलने का सुअवसर उपस्थित हुआ । हालांकि उनको व्यक्तिगत मिलने की मेरी ईच्छा अब शांत हो चुकी थी ।

माता आनंदमयी का व्यक्तित्व विराट और विलक्षण था । उनका पवित्र पारदर्शक प्रेम, अलौकिक आनंद, भाव और उनकी निखालसता, निराभिमानता और गहरी शांति, सब प्रशस्य था । पहली नजर में देखकर ही लगता की वह एक असाधारण उच्च योगिनी है । मौजूदा भारत की आध्यात्मिक विभूतिओं में उनका स्थान प्रथम पंक्ति में है और रहेगा इनमें कोई दोराय नहीं ।

सोलन के सुंदर शांत पर्वतीय प्रदेश में माता आनंदमयी की सुखद संनिधि में बीते हुए दिन सचमुच अविस्मरणीय थे । आज भी उसे याद करके मेरा हृदय भावपूर्ण हो जाता है ।

Today's Quote

Happiness is a perfume you cannot pour on others without getting a few drops on yourself.
- Anonymous

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.