नेपालीबाबा का परिचय

नेपालीबाबा के बारे में बताते हुए मुझे असाधारण हर्ष की अनुभूति हो रही है । नेपालीबाबा का निवास सीमला के बाहर, एकांत में था । सीमला जैसे भोगप्रधान स्थल में उनका रहेना अपने आप में आश्चर्य था । पीछले तकरीबन २०-२५ साल से वे यहाँ रहते थे मगर उन्हें शायद ही कोई पहचानता था । इसका कारण उनकी निस्पृहता, भीड से दूर रहने की वृत्ति और उनका बाह्य रूपरंग था । उनका साफ मुख, लंबाचौडा शरीर, सफेद धोती और खादी का रंगीन खमीस, किसीको भी घोखे में रखने के लिये पर्याप्त था । उनकी आँखे तेजस्वी और मुखमंडल दृढ निश्चय, तीव्र वैराग्य और निरभिमानता से भरा था ।

जब मैंने उनका परिचय पूछा तो उन्होंने उत्तर में कहा: 'सीमला में बहुत सारे साधुसंत आते है मगर मैं किसीको मिलने नहीं जाता । यह पहली दफा है की मैं किसीको मिलने आया हूँ ।'
फिर उन्होंने कहा: 'रात को लामा गुरु ने कहा की यहाँ दो संतपुरुष आये है । उनमें से जो युवा है, वो अवश्य मिलनेलायक है । उन्होंने मुझे यहाँ का पता दिया, तो मैं आपको मिलने चला आया ।'
यह सुनकर जोशीजी ने पूछा, 'आपके लामा गुरु कहाँ रहते है ?'
उन्होंने कहा: 'वे चीन में रहते है मगर उनके लिये स्थल-काल के भेद नहीं है । वे मुझे हररोज दर्शन देते है और वार्तालाप करते है ।'

नेपालीबाबा की बात से हमें अचरज नहीं हुआ, थोडा आश्चर्य जरूर हुआ । हमें पता था की सिद्ध योगीओं के लिये एसा करना नामुमकिन नहीं है । कठिन योगाभ्यास के बाद योगी अपने शरीर और मन पर काबू पा लेता है । फिर वो अपनी मर्जी से कहीं पर भी आ-जा सकता है । साधारण मनुष्य जिसकी कल्पना भी नहीं कर सकता एसी शक्तियाँ योगी के लिये सहज हो जाती है । ईश्वर की कृपा से मुझे एसे सिद्ध महापुरुषों के दर्शनानुभव मिल चुके थे । कोई भी व्यक्ति विकास की एसी उच्च अवस्था पर पहूँचने की ताकत रखता है । मगर वो विषयसुख को सर्वस्व मानकर इन्द्रियों में फँस जाता हैं । इसलिये उसका पूर्ण विकास नहीं होता । वो सर्वव्यापक, चैतन्य शक्ति के अनुभव से वंचित रहता है ।

मेरे मन में जो विचार चल रहे थे उसकी पूर्ति करते हुए नेपालीबाबा ने कहा : 'संसार में क्या रक्खा है ? संसार के सभी पदार्थ विनाशशील है । मनुष्य उसमें अपने आपको लूटाकर बरबाद हो जाता है । जो सनातन है, पूर्ण है, आनंदस्वरूप एवं कल्याणकारी है, उसकी आराधना वो नहीं करता । इससे विशेष आश्चर्य संसार में और क्या होगा ?'

फिर उन्होंने ज्ञान और वैराग्य की बातें सुनाई । उनकी अस्खलित, मृदु एवं गंभीर अनुभव-वाणी हम सुनते रहें । उनकी संनिधि में एसा माधुर्य था की हमें उठने का मन नहीं होता था । हम मन-ही-मन सोचते की वे बोलते रहे और हम सुनतें रहें । ये मुलाकात कभी खत्म न हो ।

जब हम धरमपुर से निकले थे तो मन में एसी कोई कल्पना नहीं थी । मगर इश्वर की कृपा से हमें एसे महापुरुष मिल गये । सिद्ध महापुरुषों का दर्शन-सत्संग अमूल्य होता है । उसे दुनिया की किसी दौलत के तराजू से तौला नहीं जाता । दुनिया का समस्त वैभव उस आनंद के आगे फिका लगता है । सत्संग से आत्मा जाग्रत होता है, उसे नयी चेतना मिलती है, हृदय परम प्रकाश से भर जाता है ।

हमारे साथ जोशीजी के रिश्तेदार, घर के सदस्य भी नेपालीबाबा की बातों को मन लगाकर सुनने लगे । सीमला में एसी विभूति रहती है उसकी उन्हें कल्पना भी नहीं थी । आज वो खुद चलकर उनके घर आये थे तो वे एसा मौका क्यूँ गवाँयेगें ?

उस दिन देर रात तक नेपालीबाबा बैठे । उन्होंने बहुत सारी बातें की । जब तक हम सीमला में रहें, वे हररोज आते रहे । उनके साथे तकरीबन बीस साल की नेपाली लडकी रहती थी । नेपालीबाबा ने उनके बारे में बताते हुए कहा 'नेपाल के जंगल में हमें ये मिली थी । जब उसे पहली बार देखा था तब उसके पेट में लकडी घुस गई थी । वो बेहोश पडी थी । उसकी हालत देखकर मैंने औषधिप्रयोग किया और उसे दर्दमुक्त किया । फिर मैंने उसे अपने घर जाने को कहा, मगर वो नहीं मानी । उसने मेरे पास रहने की जीद ले ली । आखिरकार उसके सगेसंबंधीओं की रजामंदी से वो मेरे पास रहने आयी । उसकी आध्यात्मिक अवस्था उच्च है । सारी रात वो ध्यान में बैठती है । उसे समाधि का अनुभव मिल चुका है । उसे शादी नहीं करनी है । मेरे पास रहकर वो योगसाधना तथा जडीबुटियों के बारे सीख रही है ।'

नेपालीबाबा जडीबुट्टीओं के प्रखर ज्ञाता थे । हिमालय के विभिन्न प्रदेशों में जो जडीबुटीयाँ होती है, उसका उपयोग कैसे करना, वो उन्हें मालूम था । कभीकभा वे खुद औषधि बनाकर लोगों की सेवा करते थे । जोशीजी को औषधिओं में काफि दिलचस्पी थी । इसलिये बाब हमारे पास एक प्राचीन हस्तलिखित ग्रंथ लेकर आये, जिसमें विविध औषधि के गुणों का वर्णन था ।

उनकी कुछ बातें अजीब थी । एक दिन उन्होंने कहा: 'मैं अक्सर तिबेट, चीन और नेपाल जाता हूँ । नेपाल मेरा जन्मस्थान है इसलिये सब मुझे नेपालीबाबा कहते है । जब मेरी मरजी पडती है तब मैं निकल पडता हूँ । भूतान की पहाडीयों में कई महान योगी निवास करते है । कुछ महात्मा तो सत्य, त्रेता एवं द्वापर युग के है । उनका आहार वहाँ मिलनेवाली जडीबुटियाँ है । पांचसो से हजार साल की आयु वाले कई महात्मा वहाँ निवास करते है । वे सिर्फ अपनी मरजी से दर्शन देते है । साधारण व्यक्ति को उनके दर्शन नहीं होते । मैं एसे कई योगीओं को मिल चुका हूँ ।

एक दफा पैड के नीचे मुझे महान भक्त, ज्ञानी और योगी श्री कागभुशुंडजी के दर्शन हुए थे । मैंने आजतक यह बात किसीको नहीं बताई । क्योंकि कोई मेरी बात पर यकीन नहीं करेगा । आप अधिकारी है, मेरी बात समज सकते हैं, इसलिये आपको बता रहा हूँ ।'

नेपालीबाबा ने कई दफा कैलास-मानसरोवर की यात्रा की थी । उन्होंने कहा : 'जब मैं देवप्रयाग आउँगा तो हम साथ में कैलास की यात्रा करेंगे । तब मैं आपको सिद्ध योगीओं के दर्शन कराउँगा । आपको बडी प्रसन्नता होगी ।' हाँलाकि नेपालीबाबा अभी तक देवप्रयाग नहीं आये ।

उनकी बताई हुई एक ओर बात का उल्लेख करके मैं यह प्रकरण की समाप्ति करूँगा । उन्होंने कहा, 'आखिरी सीमला परिषद के वक्त सुभाषचंद्र बोझ और हीटलर – दोनों भेष बदलकर यहाँ आये थे । मैंने उन्हें पहचान लिया और कहा की आपको पुलिस ढूँढ रही है । आप यहाँ से अफधानिस्तान की ओर निकल पडो । फिर दोनों सीमला छोडकर निकल गये थे ।'

यह बात में कितना तथ्य है, यह हमें तय करना है । हाँ, एक बात सभी लोग जानते हैं की भारत सरकार की घनिष्ठ तपास के बावजूद सुभाषचंद्र बोझ का अभी तक पता नहीं चला है । लोग उनके जिन्दा होने की उम्मीद खो बैठे है ।

Today's Quote

Try not to become a man of success but a man of value.
- Albert Einstein

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.