नेपालीबाबा से भेंट

जब मैं धरमपुर था तो सिंधी शेठ के निमंत्रण से दहेरादून के योगी श्री भैरव जोषी वहाँ आये । सेनेटोरियम के पारसी डोक्टर को यह पसंद नहीं आया । उन्होंने चंपकभाई को कहा, 'अब एक महात्मा कम थे, जो शेठ ने दूसरे को बुलाया । अगर सेनेटोरियम में इस तरह से महात्मा आने लगे तो हमारा धंधा चौपट हो जायेगा । फिर हमारा भाव कौन पूछेगा ?'

चंपकभाई क्या कहें ? मैं डोक्टर की बात समज सकता था । सेनेटोरियम में भर्ती हुआ मरीझ किसी भी तरह से ठीक होना चाहता है । जीने की उम्मीद में संत-महात्माओं से दर्शन-सत्संग करके उनके आशीर्वाद पाना चाहता है । अगर एसा करने से उसका दर्द कम होता है, या वो जल्दी ठीक हो जाता है तो डोक्टर की आजीविका पर असर पड सकता है । मगर सच्चे डोक्टर के लिये क्या जरूरी है ? दवाखाना में ढेरों की संख्या में भर्ती हुए मरीझ या जल्ज-से-जल्द दर्द से मुक्ति पाकर सेहतमंद हुए लोग ? हमारी ये बदनसीबी है की ज्यादातर लोग अपने निहीत स्वार्थ को प्राधान्य देते हैं । उनका लक्ष्य ज्यादा से ज्यादा पैसा बटोरने का होता है । यही कारण है की समाज में सेवा, प्रेम और सहकार कम होता दिखाई पड रहा है । अगर हमें आदर्श मनुष्य बनना है, तो हमें दूसरों की सहायता करनी होगी । अपने दृष्टिकोण में सुधार लाना होगा ।

हालाकि पारसी डोक्टर की परेशानी जल्दी खत्म हुई क्योंकि मैंने और जोशीजी ने सीमला जाने का निर्णय किया । वहाँ जाने के पीछे हमारा मकसद आसपास के प्रदेश को देखना तथा सीमला में स्थित जोशीजी के रिश्तेदार को मिलना था । इसके अलावा ईश्वरीय प्रेरणा भी काम कर रही थी, जिसके बारे में हमे वक्त के चलते पता चला ।

धरमपुर से बस में बैठकर हम सीमला पहुँचे । वहाँ से कथ्यु गये । कथ्यु सीमला का एक इलाका है जहाँ जोशीजी के रिश्तेदार रहते थे । वहाँ जाकर सबसे पहला काम हमने अपनी थकान मिटाने का किया । आसपास का प्राकृतिक सौंदर्य देखनेलायक था । चारों ओर लंबे और घने पेड़ तथा हिमालय की पहाडियाँ हमें आवाज दे रही थी ।

सीमला वैसे तो बडा खुबसुरत शहर है मगर अमीरी के साथ यहाँ गरीबी के दर्शन हो ही जाते है । जैसे हमारे देवीदेवता सर्वव्यापक है, इसी तरह हमारे देश में गरीबी फैली हुई है । बंबई से लेकर कोलकता, मद्रास, रामेश्वर, सीमला, बदरीनाथ या कैलास - कहीं पर भी चले जाओ, आपको अत्र-तत्र-सर्वत्र गरीबी के दर्शन होंगे । देश की एसी दुर्दशा से मुझे बहुत पीडा होती है । जब मैं किसी लाचार, बेबस या निर्धन को देखता हूँ तो मेरा हृदय भर आता है । मैं सोचने लगता हूँ की एसा दिन कब आयेगा जब भारत के सभी लोग भौतिक रूप से समृद्ध होंगे, उनको रहने और खानेपीने की समस्या नहीं होगी, तथा पढ़ने-लिखने की सहुलियत मिलेगी । उस दिन का मुझे बेसब्री से इंतजार है ।

गरीबी महामारी है, तो अमीरी कोई महामारी से कम नहीं । हमारे देश में यह रोग जल्दी से फैल रहा है । अमीर बनने के चक्कर में लोग अपनी मानवता खो बैठते है । कोई भी देश केवल भौतिक समृद्धि के बलबूते पर महान नहीं बनता । नैतिक एवं आध्यात्मिक संस्कार उसे सही मायने में समृद्ध बनाते है । मुझे श्रद्धा है की भारत अपने भूतकालीन गौरव को फिर प्राप्त करेगा और दुनिया को राह दिखायेगा । वह न केवल भौतिक बल्कि आत्मिक समृद्धि से समृद्ध होगा ।

सोचते-सोचते काफि वक्त निकल गया । जोशीजी स्वयंपाकी थे, उन्होंने हमारे लिये खाना पकाया । गृहस्थी होने के बावजूद वे विरक्त जीवन यापन करते थे । भोजन के बाद हमारी चर्चा जारी रही । तब हमारी नजर यकायक द्वार पर पडी । दोपहर का वक्त था । हमने देखा तो एक प्रचंडकाय तेजस्वी पुरुष द्वार पर खडे थे । उन्होंने आधी बाँय का रंगीन खमीस और नीचे धोती पहनी थी । उनके पैरो में चंपल और हाथ में लकडी थी । चहेरे पे ज्यादा बाल नहीं थे । आँखे तेजस्वी थी और कन्धे पर शाल रखी थी । पहली नजर में हम उन्हें पहचान नहीं पाये । मगर इसकी परवाह किये बिना वे चंपल उतारकर अंदर आये और हमारे साथ नीचे बैठ गये । कुछ देर तक हमें देखते रहें ।

मैंने पूछा, 'आपका परिचय ?'

प्रत्युत्तर में उन्होंने जो कहा ये बताने के पहले मैं पाठको को सूचित करना चाहता हूँ की साधारण-से दिखनेवाले वह महापुरुष एक सिद्धपुरुष थे, जिनका नाम नेपालीबाबा था । नेपालीबाबा साधक नहीं, मगर साधक अवस्था पार करके सिद्ध हो चुके महापुरुष थे । उनके जैसे महात्मा भारतभर में गिनेचुने होंगे । उनके दर्शन-सत्संग सभी के लिये कल्याणकारी है । उनसे मिलकर मुझे आश्वासन मिला की इस घोर कलिकाल में भी भारत में सिद्ध महापुरुषों की कमी नहीं है और भारत का आध्यात्मिक भावि निश्चित रूप से उज्जवल है ।

Today's Quote

Not everything that can be counted counts, and not everything that counts can be counted.
- Albert Einstein

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.