फिर दशरथाचल

सन १९४७ के जुलाई मास में मैं दशरथाचल गया । दशरथाचल शांत, सुंदर एवं एकांत जगह है । वहाँ कोई व्यक्ति नहीं रहता । घना जंगल और सामने दिखाई देनेवाली अर्धवर्तुलाकार बर्फिली चोटीयाँ दशरथाचल के विशेष आकर्षण है । ऋषिकेश का त्याग करने के बाद जब मैं पहली दफा यहाँ आया था तो मुझे यहाँ शांति मिली थी । इसलिये मैं दशरथाचल को तीर्थ मानता हूँ । और क्यूँ न मानूँ ? जहाँ तप-साधना करने से शांति मिले, जहाँ अंतरात्मा परमानंद का अनुभव करे, वही सबसे बडा तीर्थ है । इसलिये दशरथाचल मेरे लिये किसी तीर्थधाम से कम नहीं था । वैसे तो दशरथाचल देवप्रयाग के करीब है मगर ज्यादातर यात्रीओं को उसके बारे में पता नहीं है । इसलिये कोई वहाँ आता-जाता नहीं है ।

दशरथाचल पर सबसे बडी तकलीफ पानी की है । पानी के लिये एक-ही झरना है, जो काफि दूरी पर है और उसमें पानी बहुत कम आता है । यहाँ रहने के लिये आवश्यक खाद्यसामग्री साथ में लाना जरूरी है । मेरा सामान उठाने के लिये किसी व्यक्ति की आवश्यकता थी । कोटि गाँव का रामेश्वर मेरे साथ चलने को राजी हुआ इसलिये मेरा काम आसान हो गया । रामेश्वर का सेवाभाव असाधारण था ।

दशरथाचल पर जाकर मैंने मौनव्रत धारण किया । रामेश्वरने बडी महेनत से तूटेफूटे मकान की मरम्मत करके, उसे रहनेलायक बनाया । वर्षाऋतु चल रही थी इसलिये आसपास का नजारा देखनेलायक था । चारों ओर कोहरा छा जाता था । पहाड की चोटी भी दिखाई नहीं पडती थी । हमें लगता की मानो हम स्वर्गलोक में आ गये है ।

एक दिन ऐसा हुआ की जारों-से बारिश हुई और खाने का सामान तकरीबन खत्म हो गया । रामेश्वर ने नीचे के गाँव में पीसने के लिये गेहूँ दिये थे । अब बारिश में जाकर आटा कैसे लाया जाय ? हमारे पास केवल मुँग की दाल बची थी । दाल पुरानी हो चुकी थी मगर ओर कोई चारा नहीं था । रामेश्वर ने दाल तो पकाई मगर इतनी बेस्वाद थी की हमसे खायी नहीं गई । दूसरे दिन नीचे के गाँव में जा सके । आटा मिलने पर खाने का इन्तजाम हो पाया ।

दशरथाचल पर मुझे त्रैलंग स्वामी तथा बंगाली महात्मा के दर्शन हुये । दोनों सिद्ध महापुरुष थे । बंगाली महात्मा ने दशरथाचल पर्वत पर करीब छ माह निवास किया था और देवप्रयाग के पास अपने शरीर का समाधि द्वारा परित्याग किया था । उन्होंने कहा था की दशरथाचल पर जो मेरे दर्शन की कामना करेगा, मैं उसे अवश्य दर्शन दूँगा । मेरे लिये उनका यह वचन सत्य साबित हुआ ।

दशरथाचल पर साधना तीव्र गति से होती रही । एक दिन मुझे अंतःप्रेरणा मिली की अश्वीन मास में मुझे सिद्धि मिलेगी और इसके लिये मुझे शांताश्रम जाना होगा । यह अनुभव मिलने पर मैंने दशरथाचल से देवप्रयाग जाने का निर्णय किया । शांताश्रम में आकर मुझे असाधारण आनंद, संतोष और उत्साह का अनुभव हुआ । मुझे लगा की अब मेरी सभी यातना, चिंता, और कष्ट का अन्त होगा । इश्वर ने मुझे अब तक निराश नहीं किया था इसलिये मेरा आत्मविश्वास बना रहा ।

Today's Quote

Let your life lightly dance on the edges of Time like dew on the tip of a leaf.
- Rabindranath Tagore

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.