वोह अमर रात

जीवन के कुछ क्षण शकवर्ती होते है, जिसे हम चाहकर भी नहीं भूल सकते । १४ अक्तूबर १९४७, भाद्रपद के अमावास्या की रात मेरे लिये वैसी-ही थी । आज-भी उसे याद करते हुए मेरे रोंगटे खडे हो जाते है ।

उस दिन मैं शांताश्रम के उपर के कमरे में बैठा था । कमरे की दीवार पर भगवान राम, श्रीकृष्ण, हनुमान, बुद्ध, रामकृष्णदेव तथा विवेकानंद की तसवीरें थी । उनके दर्शन करते हुए मैं खयालो में खो गया था । सोचने लगा की पीछले ढाई साल की निरंतर कोशीश के बावजूद मैं साधना का वो मुकाम हासिल नहीं कर पाया जिसकी मुझे तलाश है । अब क्या करुँ जिससे मैं अपनी मंझिल पा सकूँ । भरी जवानी में, सबकुछ छोडकर मैंने हिमालय की राह पकडी थी । क्या मेरा जीवन एक अज्ञात प्रवासी की भाँति चलते-चलते ही खत्म हो जायेगा या मैं पूर्णता के अपने गंतव्यस्थान पर पहूँच पाउँगा ? अगर हाँ तो इसके लिये मुझे और कितना इन्तजार करना होना ? अभी तक तो एसा नहीं हुआ की किसीने अपना सबकुछ दाव पर लगा दिया और उसे सफलता न मिली हो । मुझे यकीन था की मैं बहुत जल्दी अपने मकसद में कामियाब हूँगा । चाहे मार्ग में रुकावट आयें, चाहें थोडा वक्त लगे, मगर मैं उसे पाकर रहूँगा ।

हे माँ, मेरी तपस्या से तुम वाकिफ हो । ये गंगा मैया, ये पैड-पौधे, ये पर्वत की चोटीयाँ उसके साक्षी है । मैं यहाँ अकेला रहकर, सब कुछ बर्दाश्त कर रहा हूँ । मगर एसा कब तक चलेगा ? कब होगा मुझे आपका दर्शन ? माँ, मेरे गुण-अवगुण को मत देखो । मैं तो आपका बालक हूँ, आप मेरे मातापिता है, सर्वस्व है । मेरी तकलीफ देखकर मुझ पर कृपा करो । आप ऐसे क्यूँ बैठे हो ? जल्दी से आकर मुझे अपने दर्शन दो ।

प्रार्थना करते-करते मैं भावुक हो गया, आँखो से अश्रु बहने लगे । तब एसा अनुभव हुआ, मानो कोई कह रहा है, 'माँ जगदंबा तेरी इष्ट है । किसी और के आगे हाथ फैलाने के बजाय माँ को अपने मन की बात बता । वही तेरे लिये सबकुछ करेगी । माँ की कृपा के अलावा तुझे कहीं चैन या करार नहीं मिलेगा । कल से नवरात्री शुरु हो रही है । पूर्वजन्म की तरह इस बार भी माँ की प्रसन्नता के लिये साधना कर । माँ तुझ पर अवश्य कृपा करेगी, तुझे मंझिल तक पहूँचायेगी ।'

मेरे तन-मन-अंतर में, अणु-परमाणु में एक नया उत्साह, नया जोश आया । मेरी सभी दुविधाओं का अंत हुआ । जो कुछ सुनाई पडा, मैंने बेझीझक स्वीकार किया । मुझे नयी हिंमत और आनंद का अनुभव हुआ । मुझे लगा की माँ जगदंबा ने मेरी प्रार्थना सुनकर अपनी कृपा के द्वार खोल दिये है । ये बात अगर पहले बताई होती तो ? मगर जो भी होता है, जब भी होता है, भले के लिये होता है । माँ जो भी करती है, ठीक ही करती है । चौदह-पंद्रह साल की आयु में माँ के दर्शन की लगनी लगी थी । मगर हिमालय में आकर योगाभ्यास और कुछ और बातें मन पर हावी हो गइ । सन १९४३ में ऋषिकेश में मिले त्रिकालज्ञ महात्मा के शब्द याद आये । उन्होंने कहा था की जब तक माँ जगदंबा को ईष्ट मानकर साधना नहीं करेगा, तुझे शांति नहीं मिलेगी । अब सबकुछ स्पष्ट हो गया । अब मुझे क्या करना चाहिये ये मेरी समज में आ गया । अब मुझे केवल माँ की कृपा का प्रार्थी बनना था, उन्हीं के लिये तडपना था ।

रात काफि हो चुकी थी । दीया जलाकर मैंने अपनी डायरी में लिखा, 'हे मा, जब तक आपकी पूर्ण कृपा मुझ पर नहीं होती, मैं कहीं नहीं जाउँगा । मैं खाना नहीं खाउँगा, उपवास करूँगा, आपकी प्रसन्नता के लिये जो हो सकता है, करूँगा ।'

मेरी इस बात को कोई गलत रीत-से मत लेना । ये कोई हठ या जीद्द नहीं थी । ये तो माँ के प्रति मेरे अगाध स्नेह का परिणाम था । मेरा यह स्वभाव रहा है की जब तक मैं निर्धारीत लक्ष्य की प्राप्ति न कर लूँ, मुझे चैन-ओ-आराम नहीं होता । यहाँ तक की खाना-पीना, कुछ-भी करना नहीं भाता । मुझे यकीन था की माँ के लिये इस तरह तडपने से वह जरूर दर्शन देगी । उसे आना ही पडेगा । मेरा और उसका संबंध पूर्वजन्म का है । अगर साधारण आदमी किसी के लिये खानापीना छोड देता है तो वो आदमी उसके लिये भागा चला आता है । माँ तो सारे संसार की जननी है । अगर मैं उसके दर्शन किये बिना रह नहीं सकता, मुझे जीना बेकार लगता है, तो वो क्यूँ नहीं आयेगी ? वो करुणामयी है, जो उसे सच्चे दिले से प्यार करता है, जो उसकी शरण में आता है, उसके उपर उसकी कृपा अवश्य होती है ।

दुन्यवी कामनाओं तथा लौकिक लाभालाभ के लिये मनुष्य घडे भरकर आँसू बहाता है, मगर ईश्वर के लिये, पूर्णता, परमशांति और मुक्ति के लिये एसा नहीं करता, उसे सच्चे दिल-से नहीं पुकारता । रामनाम से पथ्थर तैर गये, तो भवसागर पार करना कौन-सी बडी बात है । हे मानव, तू ईश्वर की प्रसन्नता के लिये कोशीश कर, उसकी कृपा की कामना कर । वो तुझे बंधनमुक्त और सुखी करेगा ।

देश, दुनिया और साधना के विचारों में मेरा मन डूब गया । मेरा हृदय रोता रहा । मैंने दीपक बुझा दिया और ध्यान करने बैठा । उस रात दिल में जो तूफान उठा था उसको मैं बयाँ नहीं कर सकता । वो मेरे जीवन की अमर रात थी ।

डायरी में लिखे मेरे शब्दों से शायद आपको अंदाजा हो इसलिये यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ :
'पूर्णता, आत्मशांति, भारत और सारे संसार के कल्याण हेतु साधनायज्ञ । कार्यम् साधयामि वा देहम् पातयामि ।'
'फिर वही बात । पूर्णता के लिये अंतर के अंतरतम से पुकार । भारत की सांप्रत परिस्थिति से व्यथित होकर फिर वही चित्कार । न जाने कितने लम्हों से यह होता आया है और अब भी जारी है ... भले-ही आपने उसे नहीं सुना मगर अब मैं पीछे मुडनेवाला नहीं हूँ । जब तक इस समस्या का समाधान नहीं हो जाता, मैं कोशीश जारी रखूँगा । फिर चाहे इसमें मेरी जान क्यूँ न चली जाय । माँ, मुझे आशीर्वाद दो की मैं देश-दुनिया के भले के लिये काम आ सकूँ । मेरे प्रयत्नों को आपके शुभाशीर्वाद की जरूरत है । मुझे आशा है की आप मेरी अरजी को शीघ्रातिशीध्र मान्य करोगे । तुम्हारी भक्तवत्सलता का सबूत दोगे । भारत के प्रति अपने लगाव का प्रमाण दोगे । आज १४ अक्तूबर १९४७ और मंगलवार है । कल से नवरात्री का प्रारंभ हो रहा है । आज रात्री से, इसी प्रहर से मैं अनशन व्रत का प्रारंभ कर रहा हूँ । मेरे इस संनिष्ट प्रयास में मेरे साथ रहना, मुझे ताकत देना ।'

Today's Quote

Arise, awake and stop not till the goal is reached.
- Swami Vivekananda

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.